जागरण संवाददाता, बलिया। संसदीय कार्य राज्यमंत्री आनंद स्वरूप शुक्ल ने गुरुवार को एमआइएम अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी, बाहुबली मुख्तार अंसारी व किसान नेता टिकैत पर जमकर निशाना साधा। डाक बंगले में मीडिया से मुखातिब होकर उन्होंने कहा कि ओवैसी जैसे लोग हैदराबाद को भी अलग देश बनाना चाहते हैं। वह तालिबानी विचारधारा से प्रभावित हैं। उनके मंसूबे कभी कामयाब नहीं होंगे। पहले की सरकारों में मुख्तार ने गाजीपुर जेल को आरामगाह बना लिया था। डीएम भी रोज शाम को उसके साथ बैडमिंटन खेलने चले जाते थे। राकेश टिकैत पर बोलते हुए कहा कि वे अल्लाहु अकबर तो बोल दिए, लेकिन शायद उन्हें पता नहीं कि उससे पहले खतना करवाना पड़ता है। टिकैत सस्ती लोकप्रियता के लिए कुछ भी कर सकते हैं।

मंत्री आनंद स्वरूप शुक्ल ने गिनाईं कार्यकाल की उपलब्धियां

साढ़े चार चाल में स्वास्थ्य, बिजली के साथ कानून व्यवस्था दुरूस्त की गई है। नगर विधानसभा क्षेत्र में महत्वपूर्ण विकास कार्य कराए गए हैं। स्थानीय विधायक व मंत्री आनंद स्वरूप शुक्ल ने गुरुवार को कार्यकाल के साढ़े चार वर्ष पूर्ण होने पर उपलब्धियां गिनाईं। डाक बंगले पर आयोजित पत्रकार वार्ता में संसदीय कार्य राज्य मंत्री ने कहा कि स्वास्थ्य के क्षेत्र में जिला चिकित्सालय में डायलिसिस यूनिट के साथ डिजिटल एक्स-रे, सिटी स्कैन, वेंटीलेटर आदि की व्यवस्था कराई गई है। आक्सीजन प्लांट का संचालन हो रहा है, इससे वार्डों में बेडों तक प्राणवायु की आपूर्ति की जा रही है। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बसंतपुर में भी प्लांट की स्थापना की जा रही है। कहा कि बिजली से वंचित कई गांवों को प्रकाशमान किया गया है। 24 घंटे निर्बाध बिजली आपूर्ति की जा रही है। 100 से अधिक ट्रांसफार्मरों की क्षमता बढ़ाई गई है। हनुमानगंज में 33/11 केवी का नया उपकेंद्र स्थापित करने के साथ पुरास गांव में भी प्रस्ताव तैयार है।

सीवरेज घोटाले पर लाएंगे श्वेत पत्र

पत्रकारों के सवाल पर मंत्री ने कहा कि सीवरेज सिस्टम के नाम पर पिछली सरकार में बहुत बड़ा खेल किया गया है। इसका पूरा चिट्ठा तैयार किया जा रहा है। जल्द ही इसको लेकर श्वेतपत्र जारी किया जाएगा। इसमें शामिल दोषियों पर कार्रवाई तय है।

ददरी मेला के लिए खरीदी जाएगी स्थाई जमीन

हर से सटे क्षेत्र में ऐतिहासिक ददरी मेला स्थल के सिकुड़ते जाने के सवाल पर मंत्री ने कहा कि शासन ने इसे राजकीय मेला का दर्जा दिया है। इसके लिए स्थायी जमीन की तलाश की जा रही है। शासन के पास प्रस्ताव भेजकर खरीद की स्वीकृति मांगी जाएगी।

 

Edited By: Saurabh Chakravarty