वाराणसी, जागरण संवाददाता। दक्षिण अप्रीका में फैले कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रोन के मामले बेंगलुरु में भी मिलने के बाद लोगों में दहशत बढ़ गई है। साथ ही काशी में भी इसे लेकर सतर्कता बढ़ गई है। लाल बहादुर शास्त्री एयरपोर्ट को भी अलर्ट कर दिया गया है। ताकि जिस देश में कोरोना के मामले बढ़े हैं वहां से आने वालों की तुरंत जांचकर 10 दिनों के लिए क्वारंटाइन किया जा सके।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. राहुल सिंह ने बताया कि दक्षिण अफ्रीका, ब्रिटेन, नीदरलैंड, जर्मनी से आने वालों की खास निगरानी के निर्देश दिए गए हैं। इन दिनों में कोरोना के नए वैरिएंट बढ़े है। इसके कारण वहां से आने वालों की एयरपोर्ट पर ही जांच की जाएगी। साथ ही उन्हें लगभग 10 दिनों के लिए क्वारंटाइन भी किया जाएगा। डा. सिंह ने बताया कि नए वैरिएंट ओमिक्रोन की जांच की वाराणसी में फिलहाल व्यवस्था नहीं है। इसकी जांच पुणे में ही हो पा रही है। यहां भी जांच के लिए सरकार ने पहल शुरू कर दी है।

छुट्टी के बावजूद 10647 ने लगवाया कोरोना का टीका : कोरोना को लेकर लोगों में सतर्कता बढ़ते जा रही है। वहीं जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा के निर्देशन में जिले में कोविड-19 टीकाकरण का महा अभियान भी तेज कर दिया गया है। यही वहज है कि छुट्टी के बावजूद 10647 लोगों ने अपने आपको कोरोना से बचाने के लिए टीका लगवाया। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. राहुल सिंह ने बताया कि रविवार को जिले के विभिन्न केन्द्रों, चैरिटेबल अस्पतालों सहित 98 सत्रों का आयोजन कर 10647 लाभार्थियों का टीकाकरण किया गया। इसमें 5342 लाभार्थियों को प्रथम डोज तथा 5305 लाभार्थियों को दूसरी डोज का टीका लगाया गया। इस क्रम में 45 वर्ष से ऊपर के 240 लोगों को टीका लगाया गया। वहीं 18 वर्ष से 44 वर्ष के 10407 लाभार्थियों का टीकाकरण किया गया। इसमें 5182 लाभार्थियों को प्रथम डोज तथा 5225 लाभार्थियों को दूसरी डोज का टीका लगाया गया। डा. सिंह ने बताया कि सोमवार को टीकाकरण के लिए जिले में 390 केंद्र बनाए गए हैं। जहां पर लाभार्थी पहुंचकर आन स्पाट टीका लगवा सकेंगे।

Edited By: Abhishek Sharma