वाराणसी, जागरण संवाददाता। कर्मचारी राज्य बीमा निगम के उप क्षेत्रीय कार्यालय की ओर से आजादी का अमृत महोत्सव के तहत बुधवार को चांदपुर औद्योगिक क्षेत्र स्थित एमएसएमई कार्यालय में स्वास्थ्य जांच शिविर लगाया गया। इसमें दो दर्जन से अधिक लोगों के स्वास्थ्य की जांच की गई।

शिविर में पांडेयपुर स्थित कर्मचारी राज्य बीमा निगम के अस्पताल से डा. आंतरिक ससमाल, नर्सिंग स्टाफ राकेश कुमार, फार्मासिस्ट अतुल कुमार ने बीमित लोगों एवं उनके आश्रितों के स्वास्थ्य की जांच की। इस मौके पर उप निदेशक मनोज कुमार साव, शशि शेखर, प्रवीन कुमार सिंह, सहायक निदेशक आलोक कुमार चौधरी ने कुछ लाभार्थियों के पेंशन भी स्वीकृति किए। इस दौरान लाभार्थियों को स्वीकृति पत्र भी वितरित किया गया।

आलाेक कुमार चौधरी ने बताया कि जुगेश यादव स्कूल आफ मैनेंजमेंट साइंसेस में कार्य करते थे। 27 जनवरी को आवास से कार्यालय जाते समय वे सड़क दुर्घटना की चपेट में आ गए। इसके कारण इलाज के दौरान उनकी 31 जनवरी को मौत हो गई। निगम ने जांच होने पर दुर्घटना को राजगार चोट के रूप में स्वीकृत करते हुए उनके आश्रितों को 278 रुपये दैनिक दर पर पेंशन पत्र सौंपा।

इसी प्रकार कमलेश कुमार यादव सनबीम इंग्लिश स्कूल सोसायटी शिवपुरवा में काम मरते थे। 19 अप्रैल को कोरोना के कारण उनकी मृत्यु हो गई। कोविड-19 राहत योजना के तहत जांच में सभी दस्तावेज सही पाए गए। इसके बाद उनके आश्रितों को पेंशन स्वीकृत किया गया है। इस लिए उन्हें 254 रुपये दैनिक यानी करीब साढ़े सात हजार रुपये प्रति माह पेंशन स्वीकृति पत्र उनके आश्रितों को सौंपा गया।

श्रम एवं रोजगार मंत्रालय के इस अस्पताल में पिछले दिनों अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इसमें चिकित्सा अधीक्षक डा. अभिलाष वीबी ने महिला सफाई एवं सुरक्षाकर्मियों को सम्मानित किया। कहा कि महिलाएं सेवा का प्रतिक हैं और अस्पताल के संचालन में भी इनकी अहम भूमिका है। महिला मानव जीवन के सृजन का अद्भूत स्रोत हैं, जो जीवन की संरचना से लेकर संचालन तक जीवन को गति प्रदान करती हैं। कहा कि कोरोना काल में यह अस्पताल जिला प्रशासन के दिशा-निर्देशों के अनुसार एल-1 स्तर की सुविधाएं मरीजों को दिया।

Edited By: Abhishek Sharma