मऊ, जागरण संवाददाता। बापूधाम एक्सप्रेस में सवार होकर मऊ जंक्शन से मोतिहारी जाने के लिए आया एक परिवार बुधवार को प्लेटफार्म संख्या तीन की लिफ्ट में ही फंसा रह गया जिससे उसकी ट्रेन छूट गई। घटना की जानकारी होते ही हड़कंप मच गया। आरपीएफ के जवानों के साथ ही तकनीकी शाखा के लोगों ने कड़ी मशक्कत कर लगभग 45 मिनट बाद लिफ्ट में फंसे लोगों को बाहर निकाला। बाद में इन्हें दूसरी ट्रेन से गंतव्य के लिए रवाना किया गया।

कोपागंज विकासखंड के बसारथपुर गांव यात्री इकबाल मोहम्मद सुबह अपनी पत्नी और दो छोटे बच्चों के साथ मऊ स्टेशन से मोतिहारी जाने के लिए गाड़ी संख्या 05162 बापूधाम एक्सप्रेस पकड़ने आए थे। प्लेटफार्म संख्या एक से तीन पर जाने के लिए फुट ओवरब्रिज के जरिए इकबाल वहां लगे लिफ़्ट तक पहुंचे। लिफ्ट के सहारे प्लेटफार्म नंबर तीन पर जाने लिए वह स्वजनों संग उसमें सवार हो गए। इस बीच सभी लिफ्ट से ऊपर जा ही रहे थे कि वह रास्ते में रूक गई। इसके चलते पूरा परिवार सुबह 9.05 से 9.50 तक उसमें फंसा रहा। उधर बापूधाम एक्सप्रेस प्लेटफॉर्म संख्या तीन से रवाना हो गई । सूचना मिलने पर विद्युत विभाग और आरपीएफ के सहयोग से काफी प्रयास के बाद पूरे परिवार को लिफ्ट से बाहर निकाला गया। बाद में इन्हें पूर्वांचल एक्सप्रेस से मोतिहारी भेजा गया। आरपीएफ प्रभारी प्रदीप पांडेय ने बताया कि घटना लिफ्ट के अंदर के चैनल गेट के सही तरीके से बंद न होने कारण घटी थी। कोई अपराधिक हस्तक्षेप नहीं था।

हादसे में बेटी की मौत : मऊ के करहा रोड स्थित सुरहुरपुर के पास श्याम सुंदर एवं उसकी पत्नी अनीता चौहान एवं गोद में दो वर्षीय उनकी बेटी सृष्टि चिरैयाकोट से बाइक से अपने घर जा रहे थे। सुबह लगभग .साढे ग्‍यारह बजे सुरहुरपुर टिपक्काबाद के पास पीछे से एक ट्रक ने बाइक में धक्का मार दिया जिससे गोद में बैठी बिटिया गिर गई । उसी दौरान गुजरे ट्रक से दबने से बेटी की मौत हो गई ।श्यामसुंदर ग्राम समदीपुर महाराजगंज आजमगढ़ के निवासी हैं।

Edited By: Saurabh Chakravarty