वाराणसी, जेएनएन। त्रिस्तरीय पंचायत निर्वाचन 2021 में बेसिक शिक्षा विभाग के शिक्षकों की भी ड्यूटी लगी है। इसमें परिषदीय विद्यालयों की महिला शिक्षक भी शामिल है। इसे लेकर शिक्षकों में रोष है। शिक्षक संघ के कई संगठनों ने महिला शिक्षकों को चुनाव की ड्यूटी से मुक्त रखने का अनुरोध किया है।

इस क्रम में राष्ट्रीय शैक्षिक महासंघ जनपद वाराणसी का एक प्रतिनिधिमंडल मुख्य विकास भवन में सीडीओ मधुसूदन हुल्गी से मिलकर उन्हें एक पत्रक सौंपा। इसमें कहा गया है कि तमाम शिक्षक ऐसे भी हैं जो अस्वस्थ व विकलांग तथा मातृत्व अवकाश पर चल रहीं हैं। इसके बावजूद कई महिला शिक्षकों की ड्यूटी दूसरे विकास क्षेत्रों में भी लगा दी गई है। उन्होंने शिक्षकों को आश्वासन दिया कि जो शिक्षक विकलांग या गंभीर बीमारी से ग्रसित हैं, उनकी भी ड्यूटी चुनाव में नहीं लगेगी। इसकी जांच यथाशीघ्र कराई जाएगी। पत्रक सौंपने वालों में महासंघ के जिला अध्यक्ष शशांक कुमार पांडेय, महामंत्री आनंद कुमार सिंह, उपाध्यक्ष ज्योति प्रकाश, गोपेश यादव, आशा पाठक सहित अन्य लोग शामिल थे।

कार्रवाई की चेतावनी

परिषदीय विद्यालयों के शिक्षक पंचायत चुनाव ड्यूटी कटवाने के लिए मुख्य विकास अधिकारी कार्यालय का चक्कर लगा रहे हैं। बीएसए राकेश सिंह ने इसे गंभीरता से लिया है। उन्होंने बताया कि कई शिक्षक विद्यालय अवधि में बगैर अवकाश के विकास भवन जा रहे हैं। इसके विद्यालय का कार्य प्रभावित हो रहा है। उन्होंने चेतावनी दी है कि ऐसे शिक्षकों को चिन्हित किया जा रहा है। उनके खिलाफ विभागीय कार्रवाई की जाएगी। उन्हें निलंबित भी किया जा सकता है।

अवकाश का आवेदन निरस्त

त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में परिषदीय विद्यालयों के शिक्षकों, अनुदेशकों व शिक्षामित्रों की ड्यूटी लगाई गई है। इसे देखते हुए बीएसए राकेश सिंह ने बताया कि पंचायत चुनाव व प्रशिक्षण की तिथियों के दिन सभी शिक्षकों के सीसीएल, मेडिकल व अन्य अवकाश के प्रार्थना पत्र तत्काल प्रभाव से निरस्त कर दिया है।

 

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021