वाराणसी, जेएनएन। Politics in Lockdown अपने बयानों से हमेशा विवादों में रहने वाले पूर्व मंत्री और सुभासपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर ने केंद्र और राज्‍य सरकार को निशाने पर तो लिया ही, बाबा रामदेव को भी चंदन तस्‍कर बता डाला। 28 मई को फेसबुक के माध्यम से भागीदारी संकल्प मोर्चा के सभी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए उन्‍होंने कहा कि उत्‍तर प्रदेश में जंगल राज कायम हो गया है। कहा कि 31 मई को 11 बजे ऑनलाइन पर सरकार के खिलाफ जंग का ऐलान होगा।

उन्‍होंने कार्यकर्ताओं से आह्वान किया कि वे खुद आत्मनिर्भर बनें। इसके लिए सरकार से किसी प्रकार की उम्‍मीद न करें। भाजपा सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि केंद्र और प्रदेश की सरकार जनहित में कार्य नहीं कर रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, मंत्री स्मृति ईरानी, मुख्यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ और सब झूठे हीरो है। कहा कि संकट की घड़ी में लोगों को प्रवासी कहना भी उचित नहीं है।

कोरोना महामारी को लेकर हुए लॉकडाउन में शिवराज सिंह चौहान 200 लोगों के साथ मीटिंग करते है, वहीं मनोज तिवारी दिल्ली से हरियाणा आकर क्रिकेट खेलते है। खुलेआम शारीरिक दूरी की धज्जियां उड़ाई जाती है लेकिन इनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की जाती। वहीं अगर कोई व्‍यक्ति मरीज को मोटर साइकिल पर ले जाता है तो उसकी पिटाई की जाती है और फिर चालान कर दिया जाता है। ये जंगलराज नहीं है तो क्‍या है।

हर मोर्चे पर फेल हुई सरकार

ओमप्रकाश ने कहा कि जब सच कहा जाता है तो बुरा लगता है। जैसे नोटबंदी, जीएसटी, जीडीपी, लॉकडाउन, श्रमिकों को राहत और राशन देने में, प्रवासियों को घर तक पहुचाने में, कोरोना महामारी रोकने में यानी हर मोर्चे पर सरकार विफल हुई है। जबकि गरीबो से टैक्स वसूलने में, आपदा राहत अनुदान लेकर 68100 अमीरों का कर्ज माफ करने में सरकार पास हो गई है। इनमे एक चंदन तस्कर बाबा रामदेव का भी करीब 250 करोड़ रुपये माफ हुआ है।

एक साल से नहीं मिला विधायक आवास

ओमप्रकाश राजभर ने सरकार पर आरोप लगाया और कहा कि मुझे एक साल से विधायक आवास नही मिला। नियमतः सभी विधायकों को मिलती है, ऐसे में मुख्यमंत्री को इस्तीफे दे देना चाहिए। केंद्र सरकार ने 44 सरकारी कंपनियों को बेच दिया है। कहा कि बाबा राम देव चंदन तस्कर है। कहा कि प्रधानमंत्री ने वोट के लिए युवा को नसीहत दिया कि शराब है खराब लेकिन नोट के लिए शराब की दुकानों को खोल दिया। उन्‍होंने सरकार से मांग की कि लोगों का तीन महीने का बिजली बिल माफ किया जाए। इसके अलावा तीन महीने का स्कूल फीस माफ हो। कहा कि सुभासपा के 4 विधायकों की 12 करोड़ से प्रदेश के सभी फंसे हुए लोगों को वापस लाया जाए।

Posted By: Saurabh Chakravarty

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस