वाराणसी, जेएनएन। पूर्व केंद्रीय संचार एवं रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय दूरसंचार संघ जल्द ही भारत में कार्य करना शुरू करेगा। फाइव जी स्पेक्ट्रम पर जल्द ही बोली लगेगी। इससे देश को अच्छी आय मिलेगी। मनोज सिन्हा बीएचयू के ग्रंथालय व सूचना विज्ञान विभाग और स्टूडेंट फॉर हॉलिस्टिक डेवलपमेंट ऑफ ह्यूमैनिटी की ओर से आयोजित 'फाइव जी टेक्नोलॉजीज : फॉस्टरिंग हॉलिस्टिक अप्रोच फॉर डिजिटल एक्सेस' विषयक वेबिनार को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि 5जी के आने से विनिर्माण लागत में कमी आएगी। इसके लिए टॉवर निर्माण को तेजी बढ़ाना होगा। प्रधानमंत्री ने मेक इन इंडिया के तहत 5जी के विकास, टेस्टिंग और आधारभूत ढांचा तैयार कराने की दिशा में कई महत्वपूर्ण कदम उठाये हैं। एकेडमिया नाम की कंपनी देश में 5जी विकास के लिये आगे आई है। इस तकनीक के आगमन से कृषि, जल प्रबंधन, टेली मेडिसिन और टेली एजुकेशन में क्रांति आएगी।

भारत पर विगत पांच वर्षों में 1.29 लाख गंभीर साइबर अटैक हुए

अभाविप के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष प्रो. मिलिंद सुधाकर मराठे ने 5 जी तकनीक से कनेक्ट इंडिया, प्रोपेल इंडिया और सिक्योर इंडिया (डेटा सिक्योरिटी, डेटा सेफ्टी और डेटा सावरेंटी) क्षेत्र में कार्य करने पर जोर दिया। पूर्व उप राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार एसडी प्रधान ने बताया कि कई देश दूसरे देशों की रणनीतिक सूचनाओं की चोरी के लिए साइबर अटैक को बढ़ावा दे रहे हैं। इसमें चीन के तीन लाख हैकर व पाकिस्तान की आइएसआइ शामिल है। इससे भारत पर विगत पांच वर्षों में 1.29 लाख गंभीर साइबर अटैक हुए है।

सिग्नल चालित कार बनाकर भारत के सपने को किया जाएगा साकार

भारतीय प्रबंधन संस्थान, तिरुचिरापल्ली के निदेशक डा. भीमाराय मैत्री ने कहा कि कोविड काल में ई लर्निंग पर जोर लोगों का बढ़ गया है। इससे 5 जी को काफी हद तक बल मिलेगा। नीदरलैंड से जुड़े डा. शिशिर शुक्ला ने कहा कि 5जी के आने से सिग्नल चालित कार बनाकर भारत के सपने को साकार किया जा सकता है। इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ स्टैटस्टिकल,  बंगलुरु की प्रमुख प्रो. देविका पी माडल्ली ने डाटा प्रोसेसिंग और स्मार्ट सिटी की संरचना पर व्याख्यान दिया।

Posted By: Saurabh Chakravarty

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस