जागरण संवाददाता, वाराणसी : छात्र के अपहरण का प्रयास करने के मामले में लालपुर-पांडेयपुर पुलिस ने शुक्रवार को पहडिय़ा मंडी गेट नंबर एक के अंदर मिठाई की एक दुकान के पास से एक वांछित उपेंद्र कुमार भारती को गिरफ्तार किया। जैतपुरा के नक्खीघाट निवासी वांछित पहले छात्र के पिता की गाड़ी चलाता था।

सोयेपुर स्थित शंकरपुरम कालोनी निवासी दया शंकर सिंह यादव का पुत्र देवांश सिंह सोना तालाब स्थित एक कान्वेंट स्कूल में पढ़ता है। गत 17 अगस्त को वह स्कूल से घर लौट रहा था। उसी दौरान रास्ते में घर के पास ही काली रंग की स्कार्पियो सवार तीन लोग उसे जबरदस्ती गाड़ी में बैठाने लगे। छात्र के शोर मचाने पर आसपास के लोग जुटने लगे तो स्कार्पियो सवार उसे छोड़ कर भाग निकले थे।

अपर पुलिस आयुक्त के निर्देश से इस मामले में 22 अगस्त को छात्र के पिता ने लालपुर पांडेयपुर थाने में मुकदमा दर्ज कराया था। मामले की विवेचना उपनिरीक्षक मनीष पाल के द्वारा की जा रही है। उपनिरीक्षक के मुताबिक घटनास्थल के आसपास के सीसीटीवी फुटेज खंगालने के बाद घटना के बाबत महत्वपूर्ण सुराग हाथ लगे। इस आधार पर अपहरण के प्रयास में वांछित को दबोच लिया गया।

पूछताछ में उसने पुलिस को बताया कि आठ माह पूर्व वह छात्र के पिता की गाड़ी चलाता था। आवश्यकता पडऩे पर उनकी पत्नी को ले आता व जाता था। उनके बेटे देवांश को भी स्कूल छोडऩे व लेने जाता था। उसे देवांश के आने व जाने के समय का पता था।

उसने अपने साथी राजन खरवार व रवि राजभर के संग मिलकर साजिश रची कि देवांश का अपहरण कर उसे दो दिन उसे कहीं छुपा दिया जाएगा तथा उसके पिता से 10 लाख रुपये फिरौती की मांग की जाएगी। इसी साजिश के तहत स्कूल से लौटते समय घर के पास ही उसे गाड़ी में खींचने की प्रयास किया गया था। शोरगुल सुनकर स्थानीय लोगों के आ जाने के बाद वे लड़के को छोड़कर भाग गए थे।

Edited By: Saurabh Chakravarty