शहर की उत्तर-पश्चिम दिशा में बसा शिवपुर बाजार। यह वरुणापार क्षेत्र का सबसे पुराना बाजार है। यहां पर विकास योजनाएं ढूंढें नहीं मिलती हैं। ऐसा नहीं है कि योजनाएं नहीं बनीं बस वह कागजों से बाहर नहीं निकलीं। कभी प्राचीन मंदिर, कुंड व तालाबों के साथ ही धार्मिक अनुष्ठानों के लिए यह बाजार जाना जाता था लेकिन अब तो संकरी गलियां व सड़कें पहचान बनी हैं। न नाला है और न नाली, तालाबों में गंदा पानी बहता है। दैनिक जागरण की टीम शिवपुर वार्ड में जनसुविधाओं का हालचाल लेने के लिए रविवार को पहुंची तो लोगों ने शिकायतों का पिटारा खोल दिया। विनोद पांडेय, ध्यानचंद्र शर्मा व छायाकार नवनीत रत्न पाठक की रिपोर्ट..

जागरण संवाददाता, शिवपुर : स्मार्ट सिटी के रूप में विकसित हो रही आध्यात्मिक नगरी काशी में अब भी कई क्षेत्रों में तमाम तरह की दुश्वारियां व्याप्त हैं। इसमें एक शिवपुर वार्ड नंबर 22 भी है। बात की जाए परिक्रमा के चौथे पड़ाव शिवपुर की तो यहां मूलभूत सुविधाओं का अभाव है। प्रशासनिक उदासीनता का आलम यह है कि करीब एक महीने से सीवर लाइन ओवरफ्लो हो रहा है। इसका गंदा पानी पौराणिक तालाब राम भट्ट में गिर रहा है। तालाब पर पूजा पाठ के लिए लोग आते हैं। स्नान ध्यान करते हैं। खास यह कि शिवपुर थाना गेट के सामने से ही सीवर ओवरफ्लो कर रहा है। पड़ोस में रानी ताल भी है जिसके सुंदरीकरण की डीपीआर करीब सात वर्ष पहले तैयार की गई थी। पर्यटन के दृष्टिगत विकास करना था जो अब तक नहीं हो सका। मुख्य सड़क किनारे दशकों बाद अब जाकर नाला निर्माण हो रहा है जो बीते छह माह से पूरा नहीं हो सका। 15 दिन से काम भी पूरी तरह ठप है। बिजली के लटकते तार यहां की पहचान हैं। गलियों में फैला गंदा पानी, सूखे नल व हैंडपंप की कोई सुधि नहीं ले रहा।

---

पांचों पांडव मंदिर वर्तमान में अतिक्रमण का शिकार है। मंदिर के सामने का भाग दुकानों की वजह से नजर ही नहीं आता। दुकानदार मंदिर के अंदर तक जेनरेटर रख कब्जा जमाए हैं।

हरेंद्र कुमार जायसवाल करीब तीन-चार वर्ष पूर्व जब मुख्यमंत्री पंचकोसी परिक्रमा के लिए वाराणसी आए थे तो हम लोगों को आस जगी थी कि मंदिर का कायाकल्प हो जाएगा परंतु अब तक सुंदरीकरण नहीं हुआ।

मनोज कुमार मिश्रा, मंदिर के पुजारी पांचों पांडव मंदिर से लेकर नार्मल स्कूल के समीप तक नाली बगैर गुणवत्ता के बनाई जा रही है। नाली बना रहे ठेकेदार नाली के किनारे गड्ढा छोड़ दे रहे हैं। यातायात प्रभावित हो रहा है।

राजेश कुमार मौर्या पांचों पांडव मंदिर से लेकर से लेकर नार्मल दुर्गा मंदिर तक सड़क संकरी है। जिला प्रशासन को चाहिए कि पहले रोड को चौड़ा करे उसके बाद नाली का निर्माण होना चाहिए।

धर्मेंद्र कुमार गुप्ता पक्की नाली तो बना दी जा रही है लेकिन सबसे बड़ी समस्या यह है कि इसकी सफाई कैसे होगी क्योंकि गहराई ज्यादा है और चौड़ाई कम, जिससे समस्या होगी।

सनी गुप्ता कांशी राम आवासीय कालोनी मोड़ पर जल निगम की पाइप लाइन करीब महीना भर से लीक कर रही है। शिकायत के बाद भी संबंधित विभाग दुरुस्त नहीं कर रहा। सप्लाई भी बाधित है।

अनिता केसरी इन दिनों जल निगम की ओर से जो पेयजल सप्लाई हो रही है, वह पूरी तरह दूषित है। गंदा पानी पीने से बच्चे बीमार पड़ रहे हैं। यह पाइप लाइनों में लीकेज की वजह से हो रहा है।

शरद सर्राफ नेपाली बाग की गली में बिछाए गए पत्थर कई जगह से उखड़ चुके हैं। लोगों को परेशानी होती है। क्षेत्र के पार्षद से इस बाबत कई बार गुहार लगाई गई परंतु अभी तक समस्या दूर नहीं हुई।

रमेश कुमार केसरी

---

तालाब के सुंदरीकरण को लेकर पर्यटन विभाग की ओर से आठ करोड़ 49 लाख रुपये पास हैं। जल्द ही कार्य प्रारंभ होगा। सड़क किनारे पीडब्ल्यूडी व नगर निगम नाली निर्माण करा रहा है। सड़क चौड़ी कम होने से इलाके में जाम लगता है।

विजयश्री मौर्या, पार्षद शिवपुर

---

तालाब की सफाई का प्रोजेक्ट बन गया है। जल्द ही सफाई करा दी जाएगी। नियमित तौर पर कचरा उठान हो रहा है। घरों तक गाड़ी जा रही है तो गलियों व सड़कों की सफाई नगर निगम के कर्मचारी कर रहे हैं।

डा. एनपी सिंह, नगर स्वास्थ्य अधिकारी

Edited By: Jagran