जागरण संवाददाता, वाराणसी। तीन दिनों के अवकाश के बाद सोमवार को विद्यालय खुला तो निगम क्षेत्र के तकरीबन 125 विद्यालयों में अध्ययनरत हजारों छात्र-छात्राएं, मध्याह्न भोजन के अभाव में भूखे रह गए। बताते चले कि निगम क्षेत्र के विद्यालयों में मध्याह्न भोजन के आपूर्ति का जिम्मा एनजीओ को दिया गया है। परिषदीय विद्यालयों का संचालन वर्तमान में सुबह नौ से सायं तीन बजे तक हो रहा है। बताया जा रहा है कि अमूमन एनजीओ की ओर से विद्यालय खुला रहने पर दोपहर 12.30 बजे तक मध्याह्न भोजन, विद्यालयों को उपलब्ध करा दिया जाता है। दशहरा को लेकर विद्यालय तीन दिन तक बंद रहा। सोमवार को खुला तो निगम क्षेत्र के विद्यालयों में दोपहर 12.30 तो क्या विद्यालय बंद होने तक मध्याह्न भोजन की आपूर्ति नहीं की गई थी।

जिसमें चलते जहां विद्यालयों के प्रधानाध्यापक व शिक्षक परेशान रहे, वहीं छात्र-छात्राओं को भूखे ही रहना पड़ा। हालांकि प्राप्त जानकारी के मुताबिक कई विद्यालयों में प्रधानाध्यापक व शिक्षकों ने जैसे-तैसे छात्र-छात्राओं के लिए कुछ-कुछ खाने की व्यवस्था की। लेकिन भोजन नहीं मिलने के कारण छात्रों की भूख नहीं मिट पाई। इसके चलते विद्यालयों में थोड़ी अव्यवस्था का माहौल तथा शिक्षक व छात्रों में नाराजगी भी देखी गई। बारावफात व वाल्मीकि जयंती को लेकर मंगलवार व बुधवार को भी विद्यालयों में छात्रों के लिए अवकाश रहेगा।

मध्याह्न भोजन की आपूर्ति निगम क्षेत्र के विद्यालयों में नहीं हुई

मध्याह्न भोजन की आपूर्ति निगम क्षेत्र के विद्यालयों में नहीं हुई, इसकी जानकारी नहीं है। इसकी जांच कराई जाएगी। जांच में जो भी आएगा, उसके अनुरूप आगे की कार्रवाई की जाएगी।

-राकेश सिंह, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी, वाराणसी

Edited By: Saurabh Chakravarty