वाराणसी, जेएनएन। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा परिषद (सीबीएसई) की 10वीं व 12वीं की परीक्षाएं 15 फरवरी से शुरू हो रही है। ऐसे में अब सिर्फ व सिर्फ रिवीजन करने का समय है। स्कूलों में जो पढ़ाया गया है या आपने घर पर पढ़ा है। उसे दोहराने का काम करते रहें। परीक्षा की सबसे अच्छी तैयारी मॉडल पेपर से किया जा सकता है। पांच साल का मॉडल पेपर हल कर लेने से परीक्षा में प्रश्नों पैर्टन आसानी से समझा जा सकता है। इसके अलावा सवालों की प्रैक्टिस करने का भी अभ्यास बना रहेगा। इससे आत्मविश्वास बढ़ेगा और परीक्षा का तनाव दूर होगा। रही बात सीबीएसई 12वीं में अकाउंटेंसी की। अकाउंटेंसी में थ्योरी व सवाल दोनों पर हैं। ऐसे दोनों पर बराबर-बराबर ध्यान देना होगा। इसके लिए सटीक प्लानिंग करनी होगी। साइंस मैथ की भांति भी कामर्स में अकाउंटेंसी भी थोड़ा टफ होता है। ऐसे में अकाउंट में अच्छे अंक हासिल करने के लिए कॉन्सेप्ट व फार्मूला समझ बेहद जरूरी है। साथ ही बैलेंस शीट मैच करने की कला भी समझने की आवश्यकता है। इस बार प्रश्नपत्रों के पैर्टन में आंशिक रूप से बदलाव किया गया है। हैप्पी मॉडल स्कूल (कुरहुआं) के प्रवक्ता अनिल राय के अनुसार सीबीएसई 12वीं के अकाउंटेंसी में अच्छे अंक हासिल करने के कुछ टिप्स इस प्रकार है।

टिप्स

- एनसीईआरटी की किताब से ही करें परीक्षा की तैयारी। परीक्षा में एनसीईआरटी की किताबों से ही पूछे जाएंगे सवाल।

- तैयारी के लिए सबसे अच्छा तरीका पिछले पांच साल के पेपर को कम से कम पांच बार करें हल।

- परीक्षा में 15 मिनट पेपर पढऩे के लिए मिलता है। ऐसे में पहले पेपर समझ लें। फिर उसका उत्तर लिखना शुरू करें।

-अकाउंटेंसी का पेपर काफी लंबा होता है। ऐसे में टाइम मैनेजमेंट बेहद जरूरी है। अन्यथा कुछ सवाल छूटने तय हैं।

- समय को ध्यान में रखते हुए पहले जो सवाल आता हो। उसे हल करने का प्रयास करें। कठिन लग रहे प्रश्नों का उत्तर बाद में दें।

- कामर्स में 90 फीसद तक अंक आसानी से हासिल किए जा सकते हैं। बस कॉन्सेप्ट व फार्मूला समझने की जरूरत है।

-अकाउंटेंसी में कैलकुलेशन भी बहुत करनी पड़ती है। इसलिए समय का विशेष ध्यान रखने की आवश्यकता।

- सवाल हल करने के बाद एक बार मिलान कर लें।

- फाइनेंशियल स्टेटमेंट के सवाल कुछ कठिन होते हैं। ऐसे में सावधानी पूर्वक हल करें।  

 गुरुमंत्र 

-टाइम टेबल बना कर करें परीक्षा की तैयारी। 

- अब कुछ अलग से पढऩे की जरूरत नहीं।

- साफ व स्पष्ट लिखें, परीक्षा में जितना पूछा गया हो। उतना उत्तर दें। अनावश्यक रूप से विस्तार न दें। 

 - यदि कोई सवाल कठिन लगे तो करें ग्रुप डिक्कशन।

- मन में बोर्ड परीक्षा का दबाव न रखे। बस ईमानदारी से करें अभ्यास। 

- रटने के स्थान पर लिखकर करें याद

- तीन घंटे लगातार पढऩे के बाद आधे घंटे का दें ब्रेक।

- तनाव से रहें दूर, आत्मविश्वास बनाए रखने की जरूरत।

-टाइम मैनेजमेंट का विशेष रखें ध्यान।

 80 अंक को दो पार्ट में होगा पेपर

-पार्ट ए में 60 अंक के प्रश्न

-पार्ट बी में 20 अंक के प्रश्न।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस