वाराणसी [विकास बागी]। पुलिस-प्रशासन ने प्रवासियों का डाटा जुटाने के लिए नए सिरे से ग्रामीण इलाकों में निगरानी समिति गठित करने का खाका खींचा है। गांवों में सक्रिय तीन सदस्यीय निगरानी समिति का विस्तार किया जा रहा है। इस निगरानी सुरक्षा समिति में ग्राम सचिव, ग्राम प्रधान के साथ ही आशा, आंगनबाड़ी, लेखपाल, कानूनगो, हल्का दारोगा-सिपाही, चौकीदार समेत अन्य को जोड़ा जाएगा। जिम्मेदारी होगी घर-घर सर्वे की। प्रत्येक प्रवासी से संबंधित 25 बिंदुओं पर रिपोर्ट तैयार करनी होगी। यह रिपोर्ट प्रवासी श्रमिकों को रोजगार उपलब्ध कराने में सहायक होगी।

गांवों में बैठा है प्रवासियों के लिए पहरा

मुंबई-दिल्ली समेत अन्य शहरों से आने वाले प्रवासियों की निगरानी को जिले के ग्रामीण इलाकों में 760 ग्राम निगरानी समितियों का पहरा बैठा है। लॉकडाउन के बाद से ही लोगों का अपने घरों को लौटने का सिलसिला शुरू हो गया। खुफिया तंत्र की रिपोर्ट है कि वाराणसी में 30 हजार से अधिक प्रवासी आ चुके हैं। श्रम विभाग लगभग 25 हजार प्रवासियों का 25 बिंदुओं से संबंधित आंकड़ा जुटा चुका है। ये वह प्रवासी हैं जो बस, ट्रेन व अपने संसाधनों से वाराणसी आने के बाद प्रवासी व डिस्पैच सेंटर पहुंचे और अपनी जांच कराने के साथ ही अपना अन्य विवरण उपलब्ध कराया।

चोरी-छिपे आए, कोई बात नहीं, अब सामने आ जाएं

लॉकडाउन में प्रवासियों के आने का क्रम जारी है। पुलिस-प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग के लिए परेशानी का सबब वह प्रवासी हैं जो लॉकडाउन में अपने घर ट्रक, पैदल व चोरी-छिपे अन्य वाहनों से वाराणसी आए और अपने घरों में चले गए। ऐसे लोगों की पहचान के लिए रणनीति तैयार की जा रही है। इनकी तलाश में खुफिया तंत्र के साथ ही स्वास्थ्य विभाग की टीम लगा दी गई है। ग्राम प्रधान, लेखपाल, कानूनगो, आंगनबाड़ी, आशा कार्यकर्ता, ग्राम चौकीदार की टीम बनाकर हर घर की रिपोर्ट ली जा रही है। अब तक 50 से अधिक प्रवासी कोरोना संक्रमित मिल चुके हैं। प्रवासी संक्रमितों में सर्वाधिक संख्या मुंबई से आने वालों की है।

जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने कहा कि ऐसे सभी प्रवासी या अन्य लोग जो गैर जनपदों से वाराणसी में चोरी-छिपे प्रवेश किए हैं, वे सामने आ जाएं। अपनी मेडिकल जांच कराने के साथ ही रोजगार के लिए संबंधित गांव की निगरानी समिति, विकास खंड कार्यालय, श्रम विभाग में जाकर पंजीकरण करा सकते हैं।

हर प्रवासी का विवरण श्रम विभाग के पास उपलब्ध हो

हमारा मूल उद्देश्य है कि हर प्रवासी का विवरण श्रम विभाग के पास उपलब्ध हो। वाराणसी में श्रमिक वर्ग के लिए अपार संभावनाएं हैं। बाहर से आने वालों से अपील है कि वे अपना विवरण श्रम विभाग को उपलब्ध कराएं ताकि उनकी योग्यतानुसार उन्हें कार्य दिलाने में मदद मिल सके।

- कौशल राज शर्मा, जिलाधिकारी, वाराणसी।

Posted By: Saurabh Chakravarty

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस