मीरजापुर (लालगंज)। इश्‍क नचाए जिसको यार, फ‍िर वो नाचे बीच बजार। यह गांव, गली और मोहल्‍ले की आम कहानियों से रचा गया जुमला नहीं बल्कि ऐसी कहानियाें से अक्‍सर ही लोगों का सामना हो जाता है। कुछ ऐसी ही अनोखी कहानी मीरजापुर में लालगंज की सामने आई जहां दो बच्‍चों की मां ने पांच बच्‍चों के पिता का घर संवारने के लिए अपने बच्‍चों से भी मुह मोड़ लिया।

ममता को दे दी तिलांजलि

पूत कपूत भले हो जाए मगर माता कुमाता नही होती, लेकिन इस मामले में प्रेम रोग ऐसा कि छोटे छोटे दोनो बच्चो का मनुहार भी मां को नहीं रोक सका। अपने पहले पति को छोड़ कर दूसरे पति के साथ बाइक पर बैठकर लहंगपुर पुलिस चौकी से वह ओझल हो गई। वहां पर मौजूद लोगों ने ऐसा देख कर दांतों तले अंगुली दबा लिया।

सबकुछ पहले सामान्‍य था
यह किसी फिल्म की काल्पनिक पात्रो की कहानी नही बल्कि अयल घटना है मीरजापुर में लालगंज थाना क्षेत्र के बसही कला गांव की। जहां सीमा की शादी लगभग पंद्रह वर्ष पूर्व हलिया थाना के सोठिया गांव में मुनक्का के साथ हुई थी। इस बीच दोनो को एक पुत्री व पुत्र पैदा हुए, दोनो बच्चो की उम्र क्रमशः 10 और 12 वर्ष है। बीते दो वर्षो से पति मुनक्का पुणे में रह कर प्राईवेट नौकरी करने चला गया और घर पर सास श्वसुर के साथ पत्नी सीमा व दोनो बच्चो के साथ रहने लगी।

मायके में शुरु हुई प्रेम कहानी

विगत एक वर्ष से पत्नी सीमा ससुराल से आकर अपने मायके में रहने लगी थी। चार माह पूर्व सीमा का प्रेम परवान चढ़ा तो अपने मायके में मां के पास दोनो बच्चो को छोड़ लालगंज थाना के बामी गांव निवासी अपने दूसरे जीवन साथी पांच बच्चो के पिता के साथ मंदिर में शादी कर रहने लगी। पुलिस के मुताबिक बामी निवासी रामनरेश की पत्नी का एक वर्ष पूर्व बिमारी से निधन हो चुका है।

घर आया पति तो मचा हडकंप
पुणे मे नौकरी छोड़कर पति मुनक्का कुछ दिन पहले बसही स्थित ससुराल पत्नी सीमा और बच्चो को लेने के लिए पहुंचा तो असलियत जान कर हैरान रह गया। इस संबध में उसने लालगंज थाने में पत्नी सीमा को भगा ले जाने की तहरीर भी दी। तहरीर में बताया कि उसकी कमाई का एक लाख रुपये जो पत्नी के खाते में भेजा था और जेवरात भी पत्नी सीमा साथ ले गई। मामले को थाने से लहंगपुर पुलिस चौकी भेजा गया। सीमा के ससुराल पक्ष के लोग पति मुनक्का और दोनो बच्चो के साथ मंगलवार को लहंगपुर पुलिस चौकी पर आकर पत्नी सीमा को साथ ले जाने की गुहार लगाई।

पुलिस चौकी पर हुआ फैसला 

पुलिस चौकी प्रभारी ऐश खां ने पत्नी सीमा को समझाया और दोनो बच्चो का हवाला भी दिया लेकिन पत्नी सीमा का पत्थर दिल नही पिघला। मां की बेरुखी देख दोनो बच्चो ने भी मां के साथ जाने के बजाय पिता मुनक्का के साथ रहना काबुल किया। चौकी पर मौजूद ससुरालियों व दोनो बच्चो को छोड़ कर सीमा पांच बच्चो के पिता के साथ बाइक पर बैठ कर सबके नजरों से ओझल हो गई। चौकी पर मौजूद सभी लोगों ने प्रेम के आगे ममता को मुंह मोडते देख दाँतो तले अंगुली दबा लिया। पुलिस चौकी प्रभारी ऐश खां ने लाचार पति मुनक्का को पुलिस परामर्श केन्द्र जाने की सला‍ह दी है। 
बोले चौकी प्रभारी

विवाहिता पत्नी अब अपने पति को छोड़ कर दूसरे के साथ रह रही है। उसे समझाया गया लेकिन वह पहले पति के साथ जाने को तैयार नही हुई। इस संबध में पहले पति से परिवार परामर्श केन्द्र पुलिस लाईन मीरजापुर में अपील करने की बात की है। - ऐश खां पुलिस चौकी प्रभारी, लहंगपुर, थाना लालगंज। 

Posted By: Abhishek Sharma