बलिया (जेएनएन) । कोतवाली क्षेत्र के स्टेशन-टाउन हाल रोड स्थित एक लाज के तीसरे मंजिल के कमरे में शुक्रवार की सुबह केमिकल कारोबारी का शव मिलने से सनसनी फैल गई। शव से आ रही बदबू से अंदाजा लगाया जा रहा है तीन दिन पूर्व ही उसकी मौत हो चुकी थी। पुलिस के काफी प्रयास के बाद उसकी शिनाख्त सरदार बाबू सिंह (45) वर्ष पुत्र जोगेंद्र सिंह निवासी राहुनगली थाना नूरपूर जिला बिजनौर के रूप में हुई। पुलिस ने इसके परिवार वालों को सूचना दे दी है। 

दांत में उपयोग होने वाला केेमिकल बेचने वाला बाबू सिंह लाज मेें तीन माह से एक कमरा लेकर रह रहा था। तीन दिन पूर्व उसे नीचे देखा गया था। इसके बाद उसके कमरे का दरवाजा नहीं खुला। तीसरे दिन उसमें से आ रही बदबू पर लाज संचालक विशाल सिंह ने सूचना तत्काल ओक्डेनगंज चौकी इंचार्ज बृजेश शुक्ला को दी। सीओ सिटी अरुण कुमार सिंह व भारी संख्या में पुलिस पहुुंच गई। पुलिस ने जब कमरे का दरवाजा तोड़ा तो उसमें से बहुत बदबू आ रही थी। इससे कुछ देर तक पुलिस बाहर ही रही। बाद में अंदर गई तो शव पड़ा हुआ था। वहीं बगल में शराब की बोतलें पड़ी मिलीं। पुलिस ने जब लाज संचालक से इसका अाइडी प्रूफ मांगा तो वह नहीं दे सका। इसके चक्कर में पुलिस को शिनाख्त करने में काफी दिक्कत हुई। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। इसी बीच पुलिस को पता चला कि इसके साथ के अन्य लोग आकर अन्य लाज में रुके हैं। उनसे पुलिस ने संपर्क किया तो घर का नंबर मिला। पुलिस ने परिवार वालों को इसकी जानकारी दी। चौकी इंचार्ज बृजेश शुक्ला ने बताया कि परिवार वालों के आने के बाद पहचान की पुष्टि हो पाएगी। 

घटना ने खड़े किए कई सवाल 

लाज का तीन दिन तक कमरा नहीं खुला और संचालक को इसकी चिंता भी नहीं। वहीं रहने वाले का परिचय पत्र नहीं लेना कई सवाल खड़े कर रहा है। पुलिस ने संचालक से पूछताछ करने में लगी है। नियम के तहत तो उसे प्रवेश करते ही परिचय पत्र ले लेना चाहिए था। तीन दिन तक कमरे में शव के पड़े रहने से यह स्पष्ट हो गया है कि उसकी सफाई करने तक कोई नहीं गया। यह पूरी व्यवस्था की कलई खोलने वाली घटना है।

Posted By: Abhishek Sharma