गाजीपुर, जेएनएन। जिलाधिकारी के आदेश पर गुरुवार को मुख्तार के करीबी महेंद्र जायसवाल के शहर कोतवाली क्षेत्र के गोंड़ा देहाती में बनाए गए दो मकानों को कुर्क करते हुए पुलिस ने इसे सील कर दिया। अब दोनों मकान सरकार की संपत्ति हो गई है। इसकी कीमत 50 लाख बताई जा रही है। जिला प्रशासन की इस कार्रवाई से मुख्तार के करीबियों की बेचैनी बढ़ती जा रही है।

प्रशासन द्वारा मुख्तार व उनके करीबियों के खिलाफ लगातार कार्रवाई से उनके साथ नात-रिश्तेदारों में भी हड़कंप मचा हुआ है। महेंद्र जासवाल मुख्तार अंसारी का काफी करीबी और आपराधिक गैंग आइएस-191 का सक्रिय सदस्य भी है। शासन के एंटी माफिया के मद्देनजर प्रदेश में हो रही कार्रवाई के तहत महेंद्र जायसवाल के संपत्तियों की भी जिला प्रशासन द्वारा गहनता से जांच पड़ताल की जा रही है। गोंड़ा देहाती के जो दो मकानों को कुर्क किया गया है वहह महेंद्र की मां सुदामी द्वारा खरीदी गई थी। इसके पश्चात पूजा व किरन को इसे बेचा गया था। यह किसकी संपत्ति से खरीदी गई थी इसकी भी जांच पड़ताल की जा रही है। पुलिस की रिपोर्ट पर जिला प्रशासन द्वारा इसकी काफी दिनों से जांच-पड़ताल की जा रही थी। गुरुवार को जिलाधिकारी मंगला प्रसाद सिंह के आदेश के अनुपालन में सीओ सिटी ओजस्वी चावला, तहसीलदार भारी फोर्स के साथ गोंड़ा देहाती पहुंचे। पुलिस ने गांव में पहले डुगडुगी बजाकर बताया कि गैंगस्टर धारा 14 एक्ट के तहत आज महेंद्र जायसवाल के दोनों को मकानों को कुर्क किया जा रहा है। इसके बाद सीओ व तहसीलदार ने यह कार्रवाई करते हुए दोनों मकानों को सील कर दिया।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस