मीरजापुर/सोनभद्र। विंंध्‍य क्षेत्र मीरजापुर और सोनभद्र जिले में पीएम नरेंद्र मोदी और मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ आज रविवार को शुद्ध जलापूर्ति की योजनाएं जनता को समर्पित किया। रविवार की सुबह आयोजन स्‍थल को वीडियो कांफ्रेंसिंग से जोड़कर पूरे कार्यक्रम का सीधा प्रसारण शुरू किया गया। वहीं आयोजन से एक दिन पूर्व कार्यक्रम की पूरी रूपरेखा को पीएम नरेंद्र मोदी ने भी सोशल मीडिया पर साझा कर योजनाओं के बारे में लोगों को जानकारी भी दी थी।

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि योगी आदित्यनाथ सरकार ने कोरोना काल के दौरान भी विकास कार्यों की रफ्तार धीमी नहीं होने दी, यह अपने आप में बहुत बड़ी बात है। इस संकट की घड़ी में भी प्रवासियों को घर पहुंचाने के साथ-साथ उनको रोजगार उपलब्ध कराया। इसके लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उनकी टीम बधाई की पात्र है। उत्तर प्रदेश सरकार ने बुंदेलखंड और विंध्य क्षेत्र के हर घर तक नल से पानी पहुंचाने का काम शुरू किया है, जो बहुत ही सराहनीय है। उन्होंने कहा कि जल जीवन मिशन एक महत्वाकांक्षी योजना है। इससे जल प्रबंधन और रखरखाव बढ़ेगा। मिर्जापुर सौर उर्जा का केंद्र बन रहा है। यहां की जल समस्या को दूर करने के लिए सरकार ने जो कदम उठाए हैं, उससे साफ पता चलता है कि सरकार सिर्फ लोगों की परेशानियों को समझती ही नहीं, बल्कि उसे दूर करने का काम भी करती है।

उन्होंने कहा कि 5555 करोड़ रुपए की हर घर नल योजना से तीन हजार गांवों के 41 लाख लोगों को सीधे नल से पानी मिलेगा, जो एक बहुत बड़ी उपलब्धि है। सोन, गंगा, बेलन, कर्मनाशा और शिप्रा जैसी नदियां होने के बाद भी बुंदेलखंड सूखा प्रभावित रहा है। पानी की कमी के चलते यहां से पलायन भी हुआ। उन्होंने सोनभद्र की 14 और मिर्जापुर की नौ पेयजल परियोजनाओं का शुभारंभ किया। 

यूपी सरकार ने पाया इंसेफेलाइटिस पर काबू

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार ने इंसेफेलाइटिस पर जो काबू पाया है, वह बहुत ही सराहनीय है। विशेषज्ञ भी सरकार की प्रयासों की तारीफ कर रहे हैं। सरकार को मासूम बच्चों के परिवारीजनों से जो आशीर्वाद मिल रहा है, उसका अंदाजा भी नहीं लगाया जा सकता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मिर्जापुर और सोनभद्र जिले के गांव के 42 लाख से ज्यादा लोगों को को पेयजल मुहैया कराने वाली महत्वाकांक्षी योजनाओं का वीडियो कॉन्फ्रेसिंग से रविवार सुबह शिलान्यास किया। सरकार का अनुमान है कि यह सभी परियोजनाएं दो वर्ष में पूरी हो जाएंगी। केंद्र सरकार की 'हर घर नल' योजना के तहत योगी आदित्यनाथ सरकार मिर्जापुर के 1606 गांवों में पाइप से पेयजल आपूर्ति शुरू करेगी। इससे मिर्जापुर के 21,87,980 ग्रामीणों को सीधा फायदा होगा। इसी तरह से सोनभद्र के 1389 गांवों को भी योजना से जोड़ने की शुरुआत होगी। इन गांवों के 19,53,458 परिवार पेयजल आपूर्ति योजना से जुड़ेंगे।

पाइप के पानी से सुधरेगा गांव के बच्चों का स्वास्थ्य: पीम नरेंद्र मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि जब अपने गांव के विकास के लिए, खुद फैसले लेने की स्वतंत्रता मिलती है, उन फैसलों पर काम होता है, तो उससे गांव के हर व्यक्ति का आत्मविश्वास बढ़ता है। उन्होंने कहा कि आत्मनिर्भर गांव, आत्मनिर्भर भारत के अभियान को बल मिलता है। जब विंध्यांचल के हजारों गांवों में पाइप से पानी पहुंचेगा, तो इससे भी इस क्षेत्र के मासूम बच्चों का स्वास्थ्य सुधरेगा, उनका शारीरिक और मानसिक विकास और बेहतर होगा। जल जीवन मिशन के तहत घर-घर पाइप से पानी पहुंचने की वजह से हमारी माताओं-बहनों का जीवन आसान हो रहा है। इसका एक बड़ा लाभ गरीब परिवारों के स्वास्थ्य को भी हुआ है। इससे गंदे पानी से होने वाली हैजा, टायफायड, इंसेफलाइटिस जैसी अनेक बीमारियों में भी कमी आ रही है।

पीएम मोदी ने कहा कि हर घर जल पहुंचाने के अभियान को अब डेढ़ साल हो रहे हैं। इस दौरान देश में दो करोड़ 60 लाख से ज्यादा परिवारों को उनके घरों में नल से शुद्ध पीने का पानी पहुंचाने का इंतजाम किया गया है। इसमें लाखों परिवार उत्तर प्रदेश के भी हैं। 21वीं सदी में दुनिया की आशाएं और अपेक्षाएं भारत से हैं और भारत की आशा और अपेक्षा आपके साथ जुड़ी हैं। हमें तेज गति से चलना ही होगा, आगे बढऩा ही होगा। आज की जो पीढ़ी है, 21वीं सदी का जो युवा है, उसको एक क्लीन स्लेट के साथ आगे बढऩा होगा। कुछ लोंगों के मन में यह जो पत्थर की लकीर बनी हुई है, कि कुछ बदलेगा नहीं, उस लकीर को साफ करना होगा। और क्लीन हार्ट का मतलब साफ नीयत। आप देखिए जीवन में वही लोग सफल होते है, वही लोग कुछ कर दिखाते है जिनके जीवन में जिम्मेदारी का भाव होता है। विफल वो होते है जो जिम्मेदारी उठाने से भागते हैं, जिम्मेदारी को बोझ समझते हैं वह कभी सफल नहीं हो सकते हैं।

अपने फैसले लेने पर बढ़ता है गांव के हर व्‍यक्ति का आत्मविश्वास

पीएम नरेंद्र मोदी ने सभा को आनलाइन संबोधित करते हुए कहा कि यह ऐसा क्षेत्र है जिसे आजादी के बाद दशकों तक उपेक्षित रखा गया था, इस क्षेत्र की सबसे अधिक उपेक्षा की गई। विंध्याचल हो या बुंदेलखंड - बहुत सारे संसाधन होने के बावजूद ये क्षेत्र कमियों के क्षेत्र बन गए थे। कई नदियां होने के बावजूद इन क्षेत्रों को सबसे प्यासा और सूखा प्रभावित क्षेत्रों के रूप में जाना जाता था। इतने सारे लोगों को यहां से पलायन करने के लिए मजबूर किया गया। 'हर घर जल' योजना का एक वर्ष पूरा हो गया है। 2.60 करोड़ से अधिक परिवारों ने अपने घरों में नलों के माध्यम से स्वच्छ पेयजल की सुविधा लेना शुरू कर दिया है। आज शुरू हुई परियोजनाओं को आगे और गति मिलेगी। सोनभद्र के कोटा ग्राम पंचायत के गुरमुरा में हर घर पेयजल योजना के शुभारंभ के दौरान प्रधानमंत्री ने वर्चुअल संवाद के दौरान फूलपति देवी से बात की। उन्‍होंने क‍हा कि अपने फैसले लेने पर गांव के हर व्‍यक्ति का आत्मविश्वास बढ़ता है।

जिम्मेदारी का भाव रखने वाले व्यक्ति के जीवन में सदैव ही अवसर पैदा होते हैं 

प्रधानमंत्री ने कहा कि जिम्मेदारी का भाव रखने वाले व्यक्ति के जीवन में सदैव ही अवसर पैदा होते रहते हैं और वह उसका लाभ लेने में भी सफल रहता है। ऐसा नहीं है कि सफल व्यक्तियों के पास समस्याएं नहीं होतीं, लेकिन जो चुनौतियों को स्वीकार करता है, उनका मुकाबला करता है, उन्हेंं हराता है, समस्याओं का समाधान करता है, वो सफल होता है। एक ऐसे समय में ग्रेजुएट होना जब दुनिया इतने बड़े संकट से जूझ रही है, यह कोई आसान बात नहीं है। अब आपकी क्षमताएं, इन चुनौतियों से कहीं ज्यादा बड़ी हैं। क्या हैं, इससे ज्यादा महत्वपूर्ण यह है कि आपका क्या है, आपकी क्या है और आपका प्लान क्या है। 

पीएम मोदी ने कहा कि आज देश अपने कार्बन फुटप्रिंट को 30-35 प्रतिशत तक कम करने का लक्ष्य लेकर आगे बढ़ रहा है। प्रयास है कि इस दशक में अपनी ऊर्जा जरूरतों में प्राकृतिक गैस की हिस्सेदारी को हम चार गुणा तक बढ़ाएं। आज आप ऐसे समय में इंडस्ट्री में कदम रख रहे हैं, जब महामारी के कारण के चलते पूरी दुनिया के इनर्जी सेक्टर में भी बड़े बदलाव हो रहे हैं। ऐसे में आज भारत में इनर्जी सेक्टर में विकास की काफी संभावना है। इससे देश का रोजगार क्षेत्र भी काफी लाभान्वित होगा। इसमें लोगों को रोजगार देने की संभावना भी है। 

विंध्य क्षेत्र के लिए आज बड़े उत्सव का दिन: मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि आजादी के 70-72 वर्षों में विंध्य क्षेत्र के महज 398 गांवों में ही पेयजल की सुविधा मिल सकी है। आज एक साथ करीब 3,000 गांवों में शुद्ध पेयजल की आपूॢत के लिए काम शुरू हो रहा है, यह ऐतिहासिक है। आज का दिन विंध्य क्षेत्र के लिए किसी दीपावली, विजयादशमी और छठ जैसे पर्व से कम नहीं है। शुद्ध पेयजल का अर्थ है, बीमारियों से मुक्ति और आज सोनभद्र और मिर्जापुर जनपद के 3,000 गांवों के लोगों को बीमारियों से मुक्ति देने का शिलान्यास हो रहा है। अगले डेढ़-दो वर्ष में इस क्षेत्र मे शुद्ध पेयजल की समस्या का अंत हो जाएगा। 1917 में निर्मित सोनभद्र का धनरौल डैम प्रचुर जलराशि से सम्पन्न है। अब तक इसका प्रयोग केवल सिंचाई में होता था, अब शोधन कर हम इसे पेयजल का माध्यम भी बना रहे हैं।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 'सबका साथ-सबका विकास' का जो मंत्र 2014 में लिया था, आज केंद्र और राज्य की सरकारें उसे चरितार्थ कर रही हैं। विकास सबका-तुष्टीकरण किसी का नहीं, यह हमारा सूत्र है। आज सरकार बिना भेदभाव विकास करती है। जनता का हित ही देश और प्रदेश का हित है। सीएम ने कहा कि आजादी के बाद पहली बार इतनी बड़ी परियोजना विंध्य क्षेत्र में शुरू हो रही है। यह क्षेत्र प्राकृतिक संसाधनों से परिपूर्ण है। पर्यटन विकास की असीम संभावनाओं को देखते हुए यहां हवाई पट्टी का विस्तार हो रहा है। सोनभद्र में योगिराज मत्स्येंद्रनाथ जी की साधनास्थली का जिक्र करते हुए सीएम ने कहा कि हजारों वर्षों से यह साधना स्थली लोगों में चेतना जागृत करने का केंद्र है। उन्होंने कहा कि सोनभद्र जिला प्रशासन यहां की खूबियों पर एक कॉफी टेबल बुक तैयार कर रहा है। हम अपनी हर छोटी-बड़ी खूबियों की ब्रान्डिंग करेंगे, यह रोजगार सृजन का भी आधार बनेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि सोनभद्र जनजाति बाहुल्य क्षेत्र है। अगर इसे जनजातियों की उत्पत्ति का स्थल कहें, तो गलत नहीं होगा। राज्य सरकार जनजाति जनों के सर्वांगीण विकास के लिए अनेक योजनाएं चला रही है। पीएम आवास, मुख्यमंत्री आवास, आयुष्मान भारत जैसे प्रयासों ने लोगों का जीवन सुलभ किया है।

सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने कहा कि 70 वर्षों में पेयजल आपूर्ति परियोजनाओं को केवल विंध्य क्षेत्र के 398 गांवों में ही लागू किया गया था। आज हम यहां क्षेत्र के 3000 से अधिक गांवों में ऐसी परियोजनाओं को आगे ले जा रहे हैं। मुख्यमंत्री मिर्जापुर, सोनभद्र में पेयजल आपूर्ति परियोजनाओं के लिए शिलान्यास कार्यक्रम में शामिल हुए और आयोजन के दौरान सभा को भी संबोधित करते हुए सरकार की प्राथमिकता भी गिनायी।

सुबह 10:50 बजे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ हेलीकाप्टर से सोनभद्र में आयोजन स्‍थल पहुंचे तो पार्टी कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों ने उनका स्‍वागत किया। वहीं मीरजापुर के लालगंज के हर्दीघाट बंधी के पास प्रधानमन्त्री के वर्चुअल कार्यक्रम की तैयारी पूरी कर ली गई तो छानबे विधायक राहुल प्रकाश, ब्लाक प्रमुख महेन्द्र गिरि, क्षेत्रीय प्रधानगण और महिलाओंं संग ग्रामीण उपस्थित रहे। लालगंज के महादेव गांव महिला समूह की सदस्य सुमन कोल प्रधानमन्त्री से वर्चुअल संवाद के लिए अगली लाईन में बैठकर अपना इंतजार करती नजर आईं।

जल जीवन मिशन के तहत विंध्य क्षेत्र के जनपद मीरजापुर एवं सोनभद्र में 2995 राजस्व ग्रामों की 42 लाख आबादी को लाभ पहुंंचाने वाली 5555 करोड़ की 23 ग्रामीण पाइप पेयजल परियोजना का शिलान्यास कार्यकम के लिए मंच तैयार हुआ तो अधिकारियों ने भी मंच का जायजा लेकर कार्यक्रम की तैयारियों को परखा। वहीं सुरक्षा के लिए भारी सुरक्षा बलों की भी जिला प्रशासन ने तैनाती की है।

यह भी देखें:कोरोना के बढ़ते मामलों पर CM संग PM Modi करेंगे अहम बैठक

यह भी पढ़ें PM Narendra Modi विंध्यवासियों को आज देंगे शुद्ध पेयजल की इन योजनाओं की सौगात

यह भी पढ़ें : Prime Minister Narendra Modi देव दीपावली पर वाराणसी आकर दे सकते हैं अरबों की सौगात

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस