आजमगढ़, जागरण संवाददाता। महाविद्यालय के भवन पर माफिया की मां के नाम पर बोर्ड लगाने का मामला तूल पकड़ने के बाद शुरू हुई जांच आखिरकार आरोपित के खिलाफ सुबूत जुटाने और कार्रवाई की वजह बन गया।जांच में पता चला कि उस पर गैंगस्टर सहित एक दर्जन संगीन मुकदमे जीयनपुर कोतवाली में दर्ज हैं। वह क्षेत्र का चर्चित अपराधी होने के साथ ही उसकी तलाश भी पुलिस को लंबे समय से थी। 

माफिया कुंटू सिंह की मां विद्यावती देवी के नाम पर धोखाधड़ी एवं कूटरचित दस्तावेज तैयार कर होम्योपैथिक फार्मेसी कालेज की मान्यता लेने के आरोपित व कुंटू के खास राजेंद्र यादव को जीयनपुर पुलिस ने सोमवार को गिरफ्तार कर चालान कर दिया। राजेंद्र के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट सहित एक दर्जन संगीन मुकदमे जीयनपुर कोतवाली में दर्ज हैं।

इस मामले में 24 जून को जीयनपुर कोतवाली के तत्कालीन प्रभारी निरीक्षक हेमेंद्र सिंह ने राजेंद्र यादव पुत्र रामसूरत यादव निवासी शेखमौली करतारपुर, जीयनपुर के खिलाफ धोखाधड़ी कर कूटरचित दस्तावेज के आधार पर फर्जी मान्यता लेने का मुकदमा दर्ज किया था। मुकदमे की जांच के दौरान पर्याप्‍त साक्ष्‍य संकलन के बाद पु‍लिस मामले की जांच पड़ताल में जुटी हुई थी। जांच के उपरांत सभी आरो‍पित चिन्हित होने के बाद पु‍लिस ने आरो‍पित को आखिरकार हिरासत में लेने में सफलता प्राप्‍त की है।  

आरोप था कि राजेंद्र ने कूटरचित दस्तावेज तैयार कर धोखाधड़ी से कमेटी का गठन किया और गिरजा शंकर सिंह स्मृति महाविद्यालय के भवन पर माफिया कुंटू सिंह की मां के नाम पर विद्यावती होम्योपैथिक फार्मेसी कालेज का बोर्ड लगाकर निरीक्षण हेतु गए तीन अधिकारियों की मिलीभगत से फर्जी तरीके से मान्यता ले ली। इसकी जानकारी होने पर मुकदमा दर्ज किया गया था।मुकदमा दर्ज कर पुलिस आरोपित को तलाश रही थी। सोमवार को मुखबिर की सूचना पर जीयनपुर कोतवाली के निरीक्षक अपराध रुद्रभान पांडेय ने सुबह फोर्स के साथ उसके घर दबिश देकर दबोच लिया। उससे पूछताछ के बाद चालान कर दिया।

Edited By: Abhishek Sharma