वाराणसी, जेएनएन। बेसिक शिक्षा विभाग ने खादी को बढ़ावा देने के लिए परिषदीय विद्यालयों के बच्चों को खादी से बनी हुई ड्रेस बांटने का निर्णय लिया है। पायलट प्रोजेक्ट के तहत इस वर्ष वाराणसी सहित 14 जिले चयनित किए गए हैं। इन जिलों के एक-एक ब्लाक के सभी विद्यालयों के बच्चों को खादी के यूनिफार्म वितरित किए जाएंगे। खादी की ड्रेस की शुरूआत सत्र 2019-20 में लखनऊ सहित चार जिलों से की गई है। इस वर्ष इसका दायरा बढ़ाकर वाराणसी सहित 14 जिलों में कर दिया गया है।

ऐसे में इस वर्ष लखनऊ, सीतापुर, शामली, एटा, कानपुर नगर, मुरादाबाद, आंबेडकर नगर, वाराणसी, अयोध्या, आजमगढ़, गोरखपुर, गौतमबुद्ध नगर, मऊ व मेरठ जनपद में खादी की बनी हुई ड्रेस वितरित की जाएगी। इस संबंध में बेसिक शिक्षा निदेशक डा. सर्वेंद्र विक्रम सिंह ने संबंधित जिलों के बीएसए को निर्देश भी दे चुके  हैं। इस प्रकार कोरोना वायरस के प्रकोप के चलते स्कूलों में पठन-पाठन भले ही ठप चल रहा है लेकिन बेसिक शिक्षा विभाग नए सत्र के बच्चों को पाठ्य पुस्तकें व यूनिफार्म उपलब्ध कराने की तैयारी में जुटी हुई हैं। बीएसए राकेश सिंह ने बताया कि पुस्तकों को क्रय करने का आदेश दिया जा चुका है।

ऐसा होगा स्कूल ड्रेस

पायलट प्रोजेक्ट के तहत बालकों के लिए गहरे भूरे रंग की पैंट व गुलाबी रंग की शर्ट तथा बालिकाओं के लिए गहरे भूरे रंग की स्कर्ट व गुलाबी रंग की शर्ट होगी। शर्ट का कॉलर भूरे रंग का होगा।

दो सेट ड्रेस

सर्व शिक्षा अभियान के तहत परिषदीय विद्यालयों में पंजीकृत कक्षा एक से आठ तक के बच्चों को दो सेट ड्रेस मुफ्त मिलेगा। हालांकि ड्रेस का वितरण कब से किया जाएगा। इस संबंध में अब तक कोई गाइड लाइन नहीं जारी हुई है। 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस