वाराणसी, जागरण संवाददाता। बाबा विश्वनाथ की नगरी काशी से काठमांडू के पशुपतिनाथ धाम जाने में अब पर्यटकों को काफी आसानी होगी। उक्त बातें बुद्धा एयर के कंट्री हेड उद्धव सुबेदी ने नदेसर के एक होटल में पत्रकारों से बातचीत के दौरान कही। उन्होंने बताया कि यह विमान सेवा सप्ताह में दो दिन उपलब्ध रहेगी। इस रूट पर विमान सेवा प्रारंभ किये जाने से पर्यटन क्षेत्र से जुड़े लोगों में खुशी का महौल है।

वर्ष 2018 में सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस विमान सेवा को हरी झंडी दिखाकर शुरू किया था लेकिन बाद में कोरोना के फैलते संक्रमण को रोकने के लिये मार्च 2020 में सभी अंतरराष्ट्रीय विमानों पर रोक लगा दिया गया। ऐसे में वाराणसी-काठमांडू के बीच भी विमान सेवा बंद कर दी गयी। अब अंतरराष्ट्रीय विमानों पर प्रतिबंध हटा दिये जाने पर दो वर्ष बाद इस रूट पर फिर से विमान सेवा प्रारंभ की जा रही है।

23 मई से बुद्धा एयर का विमान यू4 161 सुबह सात बजे काठमांडू एयरपोर्ट से उड़ान भरेगा जो 7.55 बजे वाराणसी एयरपोर्ट पर उतरेगा। वाराणसी से यही विमान यू4 162 बनकर सुबह 08:35 बजे उड़ान भरेगा जो 9.25 बजे काठमांडू पहुंचेगा। यह विमान सेवा सप्ताह में दो दिन सोमवार और शुक्रवार को उपलब्ध रहेगी। इस विमान का एक तरफ का किराया छह हजार रूपए है, हालांकि फ्लेक्सी फेयर होने के चलते किराये में उतार चढ़ाव संभव है। बुद्धा एयर के कंट्री मैनेजर उद्धव सुवेदी ने बताया कि पर्यटकों और बाबा विश्वनाथ के भक्तो के लिए यह सेवा शुरु की गई है अभी सप्ताह में दो दिन विमान संचालित होगा लेकिन जल्द ही सप्ताह में तीन दिन संचालित किया जाएगा।

टूरिज्म वेलफेयर एसोसिएशन (टी डब्ल्यू ए)के महासचिव प्रदीप राय ने सुझाव दिया की आईडी के लिए आधार कार्ड को वरीयता दी जाय क्योंकि वोटर आईडी कई लोगों के पास नही है और यदि है भी तो नाम में गलती होती है या सरनेम नहीं होता है। टी डब्ल्यू ए के अध्यक्ष राहुल ने बताया कि पर्यटन के दृष्टि से यह विमान महत्वपूर्ण है।इससे पर्यटकों और श्रद्धालुओं को काफी सुविधा होगी। उपाध्यक्ष अभिषेक सिंह ने बताया कि इस विमान से नेपाल के कई पर्यटक स्थल सीधे काशी से जुड़ेंगे।

Edited By: Abhishek Sharma