सोनभद्र, जेएनएन। नक्सल गतिविधियों पर प्रभारी रोक के लिए शुक्रवार को बिहार और चंदौली सीमा से सटे इलाके में पुलिस, पीएसी और सीआरपीएफ के जवानों ने संयुक्त रूप से कांबिंग अभियान चलाया। जंगल में मिले चरवाहों से जंगल क्षेत्र की गतिविधियों के बारे में पूछा और उनकी समस्याओं से अवगत हुए। उच्चाधिकारियों तक उनकी बात पहुंचाकर समस्याओं का समाधान कराने का आश्वासन देते हुए भयमुक्त माहौल का अहसास कराया।

पुलिस अधीक्षक प्रभाकर चौधरी के निर्देश पर पन्नूगंज, रायपुर, मांची व रामपुर बरकोनिया थाने की पुलिस, पीएसी व सिलहट, मांची की सीआरपीएफ सुबह ही कांबिंग करने जंगल में पहुंच गई। रायपुर थाना क्षेत्र के नक्सल गांव गोटीबांध के जंगलों में घंटों कांबिंग हुई। गांव में चौपाल लगाकर ग्रामीणों को समस्याओं को सुना। टीम में शामिल निरीक्षकों ने ग्रामीणों व चरवाहों से पूछा कि जंगली इलाके में रात के समय या दिन में किस तरह की गतिविधि होती है। कहीं कोई संदिग्ध गतिविधि तो नहीं है। अगर ऐसा है तो पुलिस को बताएं। बताने वाले का नाम, पता गोपनीय रखा जाएगा। हालांकि पूछताछ के दौरान किसी तरह की संदिग्ध गतिविधि के बारे में जानकारी नहीं मिली। ग्रामीणों ने पेयजल, शिक्षा, चिकित्सा व बिजली की समस्या से अवगत कराया। कांबिंग करने वालों में पन्नूगंज थाने के महेंद्र नाथ पांडेय, अरविंद यादव, कमलेश पाल, बृजमोहन सरोज, प्रमोद यादव आदि मौजूद थे।

 

Posted By: Saurabh Chakravarty

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप