वाराणसी, जागरण संवाददाता। करसड़ा में डंपर की चपेट में आने से मासूम छात्रा की मौत होने के बाद ग्रामीणों ने चक्काजाम करने के साथ ही तोड़फोड़ कर दिया। वहीं एक लाख रुपये नगद के साथ संविदा कर्मी के पद पर नौकरी के आश्वासन के बाद चक्काजाम समाप्त हुआ। इस दौरान पांच घंटे तक लगातार चक्काजाम के बाद पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्‍टमार्टम के लिए भेज दिया।

रोहनिया थाना क्षेत्र के करसड़ा स्थित कलछुलिया पुल के पास अखरी से चुनार मार्ग पर शनिवार की सुबह साढ़े आठ बजे नगर निगम की कूड़ा वाली डम्पर की चपेट में आने से बच्छांव निवासी प्रीति (12) पांचवीं की छात्रा की घटनास्थल पर मौत हो गयी। दुर्घटना के बाद भाग रही गाड़ी को ग्रामीणों ने रोक लिया लेकिन चालक मौके से फरार हो गया। जबकि मौके से खलासी अजय कुमार सिंह की जमकर धुनाई कर दी। घटना की सूचना पाकर मौके पर पहुंचे आक्रोशित परिवारीजनों के साथ ग्रामीणों ने चक्का जाम कर दिया।

चक्काजाम की सूचना पर सीओ बड़ागांव जगदीश काली रमन तथा इंस्पेक्टर रोहनिया विमल कुमार मिश्र व अखरी चौकी प्रभारी उमेश राय पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचकर लोगों को समझाने का प्रयास किया। लेकिन, ग्रामीण उच्चाधिकारियों को बुलाने की मांग करते रहे। अंत में मौके पर नगर निगम के अधिकारियों ने एक लाख नगद तथा मृतक छात्रा के परिवार के एक लोगों की संविदा सफाई कर्मी पर नियुक्ति के आश्वासन पर चक्काजाम समाप्त हुआ।

बच्छांव निवासी स्वर्गीय सोहनलाल बिंद की बेटी प्रीति कुमारी करसड़ा स्थित प्राथमिक विद्यालय में कक्षा पांच की छात्रा है। शनिवार की सुबह घर से साइकिल से स्कूल जाते समय सामने से आ रहे नगर निगम के डंपर की चपेट में आने से मौत हो गई। मृतक छात्रा की मां सपना मजदूरी करके परिवार का जीविकोपार्जन करती हैं। पिता मजदूरी करते थे, जिनकी 10 वर्ष पहले ही मौत हो चुकी है। मृत छात्रा एक भाई तथा तीन बहनों में सबसे छोटी थी। चक्काजाम कर रहें ग्रामीणों ने नगर निगम की गाड़ियों पर पथराव शुरू कर दिया जिसमें दो तीन गाड़ियां क्षतिग्रस्त हो गईं। ग्रामीणों के आक्रोश को देखते हुए मौके पर पीएसी भी बुलाई गई और साथ ही पथराव करने वाले कुछ लोगों को पुलिस ने हिरासत में लिया है। 

Edited By: Abhishek Sharma