बलिया, जेएनएन। यूपी बोर्ड के सौवें साल में कोरोना महामारी के चलते सभी परीक्षार्थी पास होंगे। ऐसा 100 साल में पहली बार होने जा रहा है। यूपी बोर्ड की स्थापना वर्ष 1921 में इलाहाबाद में यूनाइटेड प्राविंशियल लेजिस्लेटिव काउंसिल के एक एक्ट द्वारा हुई थी। बोर्ड में पहली परीक्षा 1923 में आयोजित की थी। पहली सार्वजनिक परीक्षा 10 वर्ष की शिक्षा पूरी करने के पश्चात हाईस्कूल की परीक्षा की व्यवस्था की गई। 1923 के पहले इंटरमीडिएट की परीक्षा होती थी। हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की परीक्षा को इलाहाबाद विश्वविद्यालय द्वारा कराई गई थी।

कोरोना महामारी को लेकर सरकार ने जैसे ही 10वीं और 12वीं की परीक्षा को निरस्त करने की घोषणा की, छात्र, अभिभावक और विद्यालय के जिम्मेदार भी झूम उठे। सरकार के इस निर्णय से बलिया के सभी कालेज इस बार खराब रिजल्ट के कलंक से भी बच जाएंगे। हर साल बोर्ड परीक्षा होने के बाद कालेजों की प्रतिष्ठा रिजल्ट से जुड़ी होती थी। खराब रिजल्ट देने वाले कालेजों की खूब किरकिरी होती थी। वहां के शिक्षकों की पढ़ाई पर भी सवाल उठते थे। जनपद लेवल पर भी शिक्षा विभाग की कार्यशैली का आकलन होता था। इस बार यह पहला मौका होगा जब सभी लोग दोष मुक्त होंगे। जनपद में कुल राजकीय इंटर कालेजों की संख्या 32 है। अशासकीय सहायता प्राप्त विद्यालय 91 और वित्त विहिन विद्यालयों की संख्या 479 है। रिजल्ट को लेकर सभी विद्यालय निश्चिंत हैं।

पिछले तीन साल का रिजल्ट प्रतिशत

2018 : हाईस्कूल 49.86

2018 : इंटरमीडिएट 51.57

2019 : हाईस्कूल 61.56

2019 : इंटरमीडिएट 53.30

2020 : हाईस्कूल 75.67

 2020 : इंटरमीडिएट 57.57

2021 : रिजल्ट आना बाकी है।

-चार साल में वर्ष वार पंजीकृत परीक्षार्थी

 -2018 में हाईस्कूल में कुल 117891 परीक्षार्थी व इंटर में 92954 परीक्षार्थी थे।

 -2019 में हाईस्कूल में कुल 85892 परीक्षार्थी व इंटर में 75542 परीक्षार्थी थे।

 -2020 में हाईस्कूल में कुल 82206 परीक्षार्थी व इंटर में 77099 परीक्षार्थी थे।

 -2021 में इंटरमीडिएट के 78,810 और हाईस्कूल के 84,414 परीक्षार्थी हैं।

इस तरह बनेगा रिजल्ट

बोर्ड परीक्षार्थियों का रिजल्ट इस बार पिछली कक्षा और प्री-बोर्ड एग्जाम का औसत निकाल कर बनेगा। शासन में इसी बात पर मंथन चल रहा है। अभी रिजल्ट को लेकर अंतिम निर्णय नहीं हो सका है लेकिन शिक्षा विभाग के लोग रिजल्ट के लिए यही फार्मूला तय मान रहे हैं।

Edited By: Abhishek Sharma