जागरण संवाददाता, मीरजापुर। अहरौरा नगर के डीह मोहाल स्थित सद्भावना शिक्षण संस्थान जूनियर हाईस्कूल में कक्षा दो के छात्र को प्रधानाचार्य द्वारा बरामदे से बाहर लटकाया गया। बच्चे का कसूर सिर्फ इतना था कि वह गोलगप्पा खाने के लिए स्कूल परिसर से बाहर चला गया था। इसका फोटो जब इंटरनेट मीडिया पर वायरल हुआ तो हड़कंप मच गया। डीएम के निर्देश पर रात में छात्र के पिता की तहरीर पर प्रधानाचार्य के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया। नगर के बूढ़ा देई वार्ड निवासी रंजीत यादव का बेटा सोनू यादव (7) कुछ ही दूर स्थित सद्भावना शिक्षण संस्थान जूनियर हाईस्कूल में कक्षा दो में पढ़ता है।

गुरुवार को छात्र सोनू यादव दोपहर में स्कूल परिसर के बाहर गोलगप्पा खाने के लिए चला गया था। जब वह लौटा तो स्कूल के प्रबंधक व प्रधानाचार्य मनोज विश्वकर्मा इतना नाराज हो गए कि उसे स्कूल की पहली मंजिल पर स्थित बालकनी से नीचे लटका दिया। इससे बच्चा रोने लगा और डर गया। जब बच्चा घर पहुंचा तो अपने पिता रंजीत यादव से घटना की जानकारी दी। रंजीत यादव ने बताया कि उनका बेटा गोलगप्पा खाने के लिए स्कूल से बाहर चला गया था। इसको लेकर सद्भावना शिक्षण संस्थान के प्रधानाचार्य नाराज हो गए और बेटे मोनू यादव को बरामदे से बाहर लटका दिया था। इस घटना को लेकर बच्चा काफी सहमा हुआ है। कुछ ही देर बाद छात्र को बालकनी से लटकाने का फोटो इंटरनेट मीडिया पर वायरल हो गया तो हड़कंप मच गया। जिलाधिकारी प्रवीण कुमार लक्षकार के निर्देश पर छात्र के पिता रंजीत यादव की तहरीर पर स्कूल संचालक व प्रधानाचार्य मनोज विश्वकर्मा के विरुद्ध मुकदमा दर्ज किया गया है।

उन्होंने जान-बूझकर ऐसा नहीं किया है

उन्होंने जान-बूझकर ऐसा नहीं किया है। गलती से बच्चे को बरामदे से लटका दिया गया था, जिसको लेकर वह बच्चे के अभिभावक से क्षमा मांग चुके हैं।

- मनोज विश्वकर्मा, प्रधानाचार्य।

प्रकरण में प्रधानाचार्य के खिलाफ पिता की तहरीर पर एफआइआर दर्ज कराया गया है

बच्चे को बरामदे में लटकाने का प्रकरण संज्ञान में आया है। मामला काफी गंभीर है। प्रकरण में प्रधानाचार्य के खिलाफ पिता की तहरीर पर एफआइआर दर्ज कराया गया है।

- गौतम प्रसाद, बीएसए, मीरजापुर।

Edited By: Saurabh Chakravarty