मीरजापुर, जेएनएन। पड़री थानाक्षेत्र के अघवार गांव में गुरुवार की रात ससुर के लाइसेंसी बंदूक से चली गोली से दामाद की मौत हो गई। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। परिजनों की ओर से पुलिस को तहरीर नहीं दी गई है लेकिन राइफल से गोली कैसे चली, यह स्पष्ट न होने से हत्या व आत्महत्या के बीच गुत्थी उलझ गई। पुलिस की मानें तो पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद हर एंगल से मामले की जांच की जाएगी।
शहर कोतवाली थाना क्षेत्र के रमईपट्टी निवासी मनीष कुमार (35) पुत्र शिवशंकर अपनी पत्नी संगीता को लेकर राखी बंधवाने अपने ससुराल पडऱी थाना क्षेत्र के अघवार गांव गए थे।

गुरुवार को शाम करीब छह-सात बजे के बीच अचानक ससुर लालमनी के लाइसेंसी 12 बोर के रायफल से गोली चली और दामाद मनीष के सिर का पीछे का हिस्सा उड़ गया। जब लोग कमरे में पहुंचे तो मनीष गिरे पड़े थे। आनन-फानन में उन्हें मंडलीय अस्पताल पहुंचाया गया जहां चिकित्सकों ने मनीष को मृत घोषित कर दिया। थाना प्रभारी पडऱी साजिद सिद्दीकी ने बताया कि गोली बाईं तरफ लगी है। परिजन इसे आत्महत्या बता रहे हैं। शव का पीएम कराया जा रहा है और रिपोर्ट आने के बाद स्थिति कुछ स्पष्ट होगी। अभी तक किसी परिजन की ओर से तहरीर नहीं मिली है।

शव लेकर पहुंचे ससुराल के लोग
मृतक के परिजनों ने बताया कि मनीष की किसी से कोई दुश्मनी नहीं थी। गोली लगने के बाद ससुराल वालों ने कोई सूचना नहीं दी बल्कि शव लेकर आए और बोले कि मनीष ने आत्महत्या कर ली है। पुलिस के आलाधिकारियों ने कहा कि अधिवक्ता की हत्या के एंगल से भी जांच की जा रही है। पुलिस ने बताया कि परिजन अभी कुछ भी बोलने की स्थिति में नहीं है। सामान्य होने पर इसकी पूछताछ ससुराल पक्ष व घरवालों से भी की जाएगी।
 

Posted By: Saurabh Chakravarty