आजमगढ़ए जेएनएन। बेटा के शौक ने पिता को आठ लाख की चपत लग गई। साइबर अपराधियों ने मासूम के मोबाइल गेम के शौक को हथियार बनाकर पहले जरूरी जानकारियां हासिल की फिर रुपये ले उड़े। हैकर्स की करतूत उजागर हुई तो पीडि़त की नींद उड़ गई। पुलिस तक सनसनीखेज मामला पहुंचा छानबीन में पूरा खेल उजागर हो गया। टीमें अपराधियों की गिरफ्तारी में जुट गई है, जिनके हाथ आने के बाद मिस्ट्री से पूर्णतया पर्दा उठ जाएगा।

बिलरियागंज क्षेत्र के इस्माइलपुर गोरिया गांव निवासी अध्यापक हरिबंश लाल श्रीवास्तव शिक्षक हैं। उनका पुत्र दीप रंजन (12) छठवीं का छात्र है। उसे मोबाइल पर पब्‍जी, कोडा साफ्ट, फ्री फायर आदि आनलाइन गेम खेलने का शौक है। एसपी प्रो. त्रिवेणी ङ्क्षसह ने बताया कि दीप रंजन के मोबाइल पर एक दिन एक हैकर्स ने वाट्सएप मैसेज किया। बच्चे ने रुचि दिखाई तो दोस्ती गांठ उसके शौक को हथियार बना लिया। फिर क्या धीरे-धीरे बच्चे को एडवांस गेम खेलने का लालच देते रहे फिर कि वह काफी रुपये भी कमा सकता है। हैकर्स के झांसा में आकर उक्त बालक अपने पिता के डेविड कार्ड का डिटेल के साथ ही मोबाइल नंबर भी शेयर कर दिया। हैकर्स पेटीएम अकाउंट पर आगे कुछ रुपये भेजता है उसके बाद उसके पिता के मोबाइल पर आने वाले ओटीपी की जानकारी भी हासिल कर लिया। सारी जानकारी प्राप्त करने के बाद साइबर अपराधी उसके पिता के बैंक खाता से 10 अप्रैल से लेकर 12 मई के बीच आठ लाख रुपये उड़ा दिए। एसपी ने कहा कि रुपये उड़ाने वाले अपराधी को ट्रेस कर लिया गया है, उसे जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

 

Posted By: Saurabh Chakravarty

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस