वाराणसी, जेएनएन। वैश्विक महामारी बन चुके कोरोना वायरस (कोविड-19) के खिलाफ जंग लड़ने के लिए आइआइटी-बीएचयू ने भी कमर कस ली है। अपने सामाजिक दायित्वों का निर्वहन करते हुए संस्थान ने जिला प्रशासन और नगर निगम के सहयोग से सेनिटाइजर बना कर शहर में विभिन्न स्थानों पर वितरित कराया गया। आइआइटी-बीएचयू अब तक नगर निगम और रोटरी क्लब 159 लीटर सेनिटाइजर उपलब्ध करा चुका है वहीं, जिलाधिकारी, डीआईजी और सीआरपीएफ कार्यालयों और बीएचयू परिसर में तैनात सुरक्षाकर्मियों को सैकड़ों बोतल हैंड सैनिटाइजर वितरित किया जा चुका है। मानव संसाधन विकास मंत्री श्री रमेश पोखरियाल अपने सोशल मीडिया साइट फेसबुक पर भी संस्थान के कार्यों की सराहना की है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा निर्धारित गाइडलाइन का पालन करते हुए केमिस्ट्री विभाग के अस्सिटेंट प्रोफेसर डाॅ रामानाथन और स्कूल आॅफ बाॅयोमेडिकल के अस्सिटेंट प्रोफेसर डाॅ मार्शल के दिशानिर्देशों में आइआइटी-बीएचयू जिले में गुणवत्तायुक्त और सस्ते सैनिटाइजर उपलब्ध कराने के लिए कार्य कर रहा है।

इस क्रम में नगर आयुक्त श्री गौरांग राठी के अनुरोध पर संस्थान द्वारा दो चरण में कुल 127 लीटर सेनिटाइजर उपलब्ध कराया गया। वहीं, रोटरी क्लब के पदाधिकारी श्री दीपक अस्थाना के अनुरोध पर 32 लीटर सेनिटाइजर उपलब्ध कराया गया। उन्होंने आइआइटी-बीएचयू द्वारा किये जा रहे कार्यों की सराहना की है। जिलाधिकारी श्री कौशल राज शर्मा ने संस्थान द्वारा सेनिटाइजर बनाने की विधि भी मांगी जिसे सरल शब्दों में उपलब्ध कराया गया। सीआरपीएफ के जवानों को 1200 बोतल, आइआइटी-बीएचयू के सुरक्षाकर्मियों, स्टाफ को 100 बोतल सेनिटाइजर का उपलब्ध कराया जा चुका है। विभिन्न संस्थाओं, अस्पतालों, डीएलडब्ल्यू में भी आइआइटी-बीएचयू की तरफ से सेनिटाइजर बनाने की ट्रेनिंग दी जा चुकी है। वर्तमान में संस्थान को 34 भुल्लनपुर पीएसी ने 125 लीटर और रोटरी क्लब ने 10 लीटर सेनिटाइजर उपलब्ध कराने का निवेदन किया है।

संस्थान के निदेशक प्रोफेसर प्रमोद कुमार जैन ने बताया कि संस्थान अपनी सामाजिक दायित्वों का निवर्हन करते हुए इस खतरनाक वायरस से लड़ने को पूरी तरह तैयार है और इस तरह की सभी जरूरतों के लिए प्रशासन का सहयोग करने को पूरी तरह तत्पर है।

Posted By: Saurabh Chakravarty

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस