वाराणसी, जागरण संवाददाता: विदेश में नौकरी दिलाने का झांसा देकर सैकड़ों युवकों से करोड़ों रुपये ऐंठकर ठग फरार हो गए। ठगी के शिकार युवकों ने रविवार को लालपुर पांडेयपुर थाने पहुंचकर तहरीर दी। पुलिस मामले की जांच कर रही है। 

पुलिस को दी गई शिकायत में बताया गया कि बिहार के सिवान निवासी पप्पू सिंह ने जलालीपुरा निवासी शिवकुमार के हुकुलगंज स्थित रामसिंह कटरा में काशी ओवरसीज नाम से कार्यालय खोला था। इसमें पप्पू सिंह के साथ निधि तिवारी और रघुवीरदास भी थे। 

हर युवक से 70 हजार से एक लाख रुपये वसूले

चंदौली के संघनी निवासी राजेश शर्मा, बलिया के मुंगडीह निवासी अमित कुमार सहित 70 से 80 लोगों को उज्बेकिस्तान में नौकरी दिलाने का झांसा दिया। आरोप है कि हर युवक से 70 हजार से एक लाख रुपये तक वसूला था। उज्बेकिस्तान के विमान में भेजने के लिए सभी को लेकर तीनों आरोपित दो दिसंबर को दिल्ली गए थे। वहीं एक होटल में ठहराकर तीनों आरोपित भाग निकले। 

परेशान युवक वापस वाराणसी स्थित आफिस आए तो यहां ताला बंद था। वहां से सभी थाने पहुंचे और तहरीर दी। युवकों का कहना है कि ठगी का शिकार हुए युवकों की संख्या चार सौ से अधिक है। सभी से रुपये वसूले गए हैं। बेरोजगारों के करोड़ों रुपये लेकर फरार हो गए हैं।

मुंबई भी गए थे कई युवक

ठगी के शिकार युवकों को जानकारी मिली कि तीनों आरोपित पप्पू सिंह, निधि तिवारी और रघुवीरदास 70 से 80 युवकों के दल को मुंबई भी ले गया था। इनसे भी उज्बेकिस्तान भेजने के नाम पर रुपये वसूले गए थे। जिसके साथ युवक गए थे, वह युवकों को होटल में छोड़कर फरार हो गया था। 

आफिस में फेंका पड़ा था पासपोर्ट 

युवकों से ठगी करने वाले सभी का पासपोर्ट अपने पास रख लेते थे। युवक रविवार को आफिस पहुंचे तो देखा कि वहां ताला बंद है। मकान मालिक शिव कुमार से ताला खुलवाया तो उसमें ढेरों पासपोर्ट फेंके हुए थे। उन्होंने उज्बेकिस्तान के साथ अजरबैजान में भी नौकरी दिलाने के दिलाने का दावा कर रहे थे।

बेरोजगारों को फंसाने की बड़ी साजिश 

ठगी का शिकार हुए अमित कुमार, राजेश शर्मा समेत अन्य युवकों ने बताया कि विदेश में नौकरी के बारे में जानकारी देने वाले मोबाइल एप एमवनडी वन पर इंटर इंजीनियरिंग कंपनी का एक विज्ञापन दिया गया था। इसमें उज्बेकिस्तान में ढेरों नौकरी का आफर था। अच्छी सैलरी और तमाम सुविधाओं का जिक्र था। इस पर ही हुकुलगंज स्थित आफिस के बारे में जानकारी दी गई थी। बलिया, जौनपुर, गाजीपुर, आजमगढ़, समेत आसपास के जिलों के तमाम युवक आफिस पहुंचे।

इंटरव्यू लेने वाला हिंदी में बात करता था

पप्पू सिंह, निधि तिवारी और रघुवीरदास ने सभी युवकों से मोटी रकम वसूली। 15 से 20 हजार रुपये आनलाइन लिए। 50 हजार से अधिक कैश लिया। सभी का आनलाइन इंटरव्यू हुआ। इंटरव्यू लेने वाला हिंदी में बात करता था लेकिन खुद को उज्बेकिस्तान का बताता था। जिसने रुपये दिए उनको वीजा आदि देकर उज्बेकिस्तान जाने के लिए दिल्ली ले गए। होटल में ठहराया गया था। उन्हें बताया गया कि रात दो बजे की फ्लाइट है। सभी को सात बजे एयरपोर्ट जाने के लिए तैयार होने को कहा। इसी बीच मौका पाकर आरोपित वहां से फरार हो गए।

Edited By: Shivam Yadav

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट