वाराणसी, जेएनएन। महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ के स्नातक की बैक परीक्षाएं  22 जनवरी से होगी। वहीं सैकड़ों छात्रों ने परीक्षा फार्म ही नहीं भर सके हैं। टाइम टेबल भी जारी होते ही ऐसे छात्र अब विद्यापीठ का चक्कर लगा रहे हैं। जबकि परीक्षा फार्म भरने की अंतिम तिथि 15 दिसंबर 2020 को ही बीत गई है। ऐसे में अर्ह होने की बावजूद बैक परीक्षा की सुविधा से सैकड़ों छात्रों का वंचित होना तय माना जा रहा है।

छात्रों का कहना है कि विद्यापीठ प्रशासन ने इस बार बैक व श्रेणी सुधार की परीक्षाफार्म भरने के लिए काफी कम समय दिया था। 11 दिसंबर 2020 को परीक्षा फार्म वेबसाइट पर अपलोड किए गए थे। छात्रों को पांच दिनों के भीतर आनलाइन परीक्षा फार्म भरने का का निर्देश दिया गया था। वाराणसी ही नहीं चंदौली, भदोही, मीरजापुर, सोनभद्र व बलिया के छात्रों को इसकी जानकारी ही हुई। इसके पीछे महाविद्यालयों में पठन-पाठन अब तक शुरू न होना मुख्य कारण है। पठन-पाठन शुरू न होने के कारण विद्यार्थियों का महाविद्यालयों में आना-जाना काफी कम है।

छात्रों ने कुलसचिव से परीक्षा फार्म भरने का एक मौका और देने का अनुरोध किया है। वहीं विद्यापीठ प्रशासन स्नातक अंतिम खंड तथा द्वितीय व चतुर्थ सेमेस्टर की बैक व श्रेणी सुधार की परीक्षा की तैयारी में जुटा हुआ है।  वाराणसी सहित छह जिलों में होने वाली बैक व श्रेणी सुधार की परीक्षा में 9413 परीक्षार्थी शामिल होंगे। इसके छह जनपदों में आठ केंद्र भी बनाए जा चुके हैं। कुलसचिव डा. एसएल मौर्य ने फिलहाल परीक्षा फार्म भरने की तिथि बढ़ाना संभव नहीं हैं। अब परीक्षा के लिए चार दिन का समय और बचा हुआ है। ऐसे में यदि तिथि बढ़ाई जाएगी तो परीक्षाओं का संचालन बाधित होगा।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021