मीरजापुर, जागरण संवाददाता। लखनऊ में दो दहशतगर्द पकड़े जाने के बाद प्रदेशभर के धार्मिक स्थलों की सुरक्षा व्यवस्था को लेकर शासन ने हाई अलर्ट घोषित किया है। वहीं विंध्यवासिनी मंदिर की सुरक्षा व्यवस्था को लेकर जिला प्रशासन काफी सख्त दिखा। साथ ही विंध्यवासिनी मंदिर पर कूपन सिस्टम लागू किया गया। अब कोई भी वीआइपी श्रद्धालु बगैर कूपन के मां विंध्यवासिनी का दर्शन-पूजन नहीं कर सकेगा। हालांकि आम श्रद्धालु पहले की तरह मां विंध्यवासिनी का दर्शन-पूजन कर सकेंगे।

प्रशासनिक भवन पर नगर मजिस्ट्रेट विनय कुमार सिंह व क्षेत्राधिकारी सदर प्रभात राय ने श्रीविंध्य पंडा समाज के साथ बैठक कर कई बिंदुओं पर चर्चा की। काफी देर तक विचार-विमर्श के बाद सुरक्षा व्यवस्था को लेकर कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए। निकास द्वार से प्रवेश व चरण स्पर्श पर भी रोक लगा दिया गया। भोर के चार बजे से शाम चार बजे तक कोई भी श्रद्धालु मां विंध्यवासिनी का चरण स्पर्श नहीं कर सकेगा। मंदिर पर प्रवेश के लिए एक मार्ग भी आरक्षित किया गया। नंबर एक प्रवेश मार्ग से तीर्थ पुराेहित श्रद्धालुओं को दर्शन करा सकेंगे। वहीं दानपात्र के पास प्रवेश मार्ग को रिजर्व कर दिया गया। कोई भी वीआइपी मां विंध्यवासिनी के दर्शन को आता है तो सबसे पहले उसे प्रशासनिक भवन पर नाम-पता, पद व मोबाइल नंबर दर्ज कराना होगा। उनके तीर्थ पुरोहित को भी अपना विवरण दर्ज कराना होगा। इसके बाद मुहर लगा एक कूपन मिलेगा। तब जाकर उनको मंदिर के अंदर प्रवेश मिलेगा। प्रवेश के समय कूपन ले लिया जाएगा, फिर हर राेज शाम को मिलान होगा। इससे यह पता चल सकेगा कि जितने लोगों को कूपन दिया गया, वह पूरा लाैटा या नहीं। इससे मारपीट व दुर्व्यवस्था से भी छुटकारा मिलेगा। झांकी व नंबर दो प्रवेश मार्ग से आम श्रद्धालु मां विंध्यवासिनी का नियमित दर्शन-पूजन कर सकेंगे। इसके लिए कोई रोक-टोक नहीं होगा। इस दौरान श्रीविंध्य पंडा समाज के अध्यक्ष पंकज द्विवेदी, व्यवस्था प्रमुख गुंजन मिश्र, राजन पाठक, केदार भंडारी, अजय दुबे आदि रहे।

मंदिर के चारों तरफ लगा बैरियर

कोई भी वाहन मंदिर के करीब न पहुंच सके, इसके लिए चारों तरफ आठ बैरियर लगाया गया। तीन पुरानी वीआइपी, दो न्यू वीआइपी, दो थाना कोतवाली रोड व एक पक्का घाट मार्ग पर बैरियर लगाया गया। बैरियर पर पुलिसकर्मियों की तैनाती रहेगी, जो किसी भी वाहन को प्रवेश करने नहीं देंगे। हालांकि स्थानीय लोगों को पास जारी किया जाएगा। बगैर पास के प्रवेश नहीं दिया जाएगा।

सुरक्षा के मद्देनजर व्यवस्था को चुस्त-दुरूस्त किया जा रहा है

सुरक्षा के मद्देनजर व्यवस्था को चुस्त-दुरूस्त किया जा रहा है। मां विंध्यवासिनी के दर्शन को लेकर कुछ योजनाएं बनाई जा रही हैं। अगर यह व्यवस्था सुचारू रूप से लागू हो गई तो श्रद्धालुओं को दर्शन-पूजन में होने वाली दिक्कत काफी हद तक खत्म हो जाएगी। ’

- विनय कुमार सिंह, सिटी मजिस्ट्रेट

विंध्यवासिनी मंदिर पर नई व्यवस्था का विरोध

विंध्यवासिनी मंदिर पर नई व्यवस्था को लेकर पुरोहित समाज का एक पक्ष दानपात्र के पास धरने पर बैठ गया और पुलिस-प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की। नगर मजिस्ट्रेट विनय कुमार सिंह व क्षेत्राधिकारी सदर प्रभात राय ने श्रीविंध्य पंडा समाज के साथ बैठक कर मंदिर की सुरक्षा व्यवस्था के दृष्टिगत नया नियम लागू किया। इसमें दानपात्र के पास पुरोहितों को यजमान के साथ जाने पर रोक लगा दिया गया। उनके लिए दूसरी लाइन की व्यवस्था की गई। इसको लेकर दानपात्र के पास पुरोहितों ने वीआइपी के दर्शन-पूजन पर रोक लगा दिया। आरोप लगाया कि दानपात्र के पास प्रवेश के लिए सिर्फ वीआइपी के लिए चिन्हित किया गया है। मंदिर पर दुर्व्यवस्था फैलाया जा रहा है। यह होने नहीं दिया जाएगा। पुरोहितों ने पुलिस-प्रशासन मुर्दाबाद के नारे भी लगाए।

Edited By: Saurabh Chakravarty