वाराणसी, जेएनएन। Coronavirus Test कोरोना पॉजिटिव आए मरीजों के घरों के आस-पास के इलाके में गुरुवार को स्वास्थ्य विभाग ने अभियान चलाकर स्वास्थ्य परीक्षण किया। शहर और ग्रामीण क्षेत्र के कुल 29 हॉटस्पाॅट में आठ हजार 966 लोगों की थर्मल स्कैनिंग के साथ स्वास्थ्य परीक्षण किया गया। उधर, डाक्टरों की मोबाइल वार्ड क्लीनिक की टीम ने शहरी क्षेत्र में 3372 व ग्रामीण क्षेत्र में 7559 लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण किया। जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने बताया कि पॉजिटिव मरीजों के परिवार के सदस्यों तथा उनके निकट संपर्क में आने वालों को होम क्वारंटाइन के लिए लगातार निर्देश दिए जा रहे। इसकी लिखित सूचना देते हुए उनके घर पर संबंधित पोस्टर भी चस्पा हो रहे।

शहर के 17 हॉटस्पाॅट में अभियान

स्वास्थ्य विभाग ने दारानगर हॉटस्पाॅट में 07, दुलही गड़ही (जैतपुरा) में 05, ओमकालेश्वर पठानी टोला में 201, कमालपुर/जैतपुरा में 25, जमालीद्दीनपुरा में 210,गांधीनगर (सुंदरपुर) में 96, शिवाला में 11, चुप्पेपुर (शिवपुर) में 98, कांशीराम आवास (शिवपुर) में 210, माधोपुर (सिगरा) में 261, हबीबपुरा (चेतगंज) में 61, बेनियाबाग में 125, शंकर धाम कालोनी में 190, गुरूधाम में 120, निराला नगर में 210, तरना में 101, गायत्री नगर (पांडेयपुर) में 949 व्यक्तियों की थर्मल स्कैनिंग एवं स्वास्थ्य परीक्षण किया गया। कुल 2880 की जांच की गई।

ग्रामीण क्षेत्र में 6086 की स्कैनिंग

ग्रामीण क्षेत्र में 12 हॉटस्पाट में सेवापुरी ब्लाक के हरिभानपुर हॉटस्पाॅट में 175, बिहड़ा में 236, चोलापुर ब्लाक के जगदीशपुर में 1818, चाहीं/चौबेपुरखुर्द में 608, पहाड़पुर में 721, कुरौना (विकास खंड आराजीलाईन) में 196, सरवनपुर में 1185, विठ्ठलपुर में 102, चिरईगांव ब्लाक के मोकलपुर में 337, पिंडरा ब्लाक के गडख़ड़ा में 42, घोघली में 305, हरहुआ ब्लाक के गहुरा/भोपापुर में 361 व्यक्तियों का स्वास्थ्य परीक्षण एवं थर्मल स्कैनिंग किया गया। कुल 12 हॉटस्पाट में 6086 लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण हुआ।

पूल टेस्टिंग करेगा स्वास्थ्य महकमा

 कोरोना जांच का दायरा बढ़ाने के लिए लंबे समय से जिस पूल टेस्टिंग को लेकर कवायद चल रही थी वह अब शुरू होने जा रहा है। सीएमओ डा. वीबी सिंह ने गुरुवार को बीएचयू के अधिकारियों व डाक्टरों से वार्ता कर इसके लिए सहमति बना ली है। सीएमओ ने बताया कि पूल टेस्टिंग के तहत कोरोना के लक्षणों वाले 10 लोगों का रैैंडम सैंपल एक साथ एक किट में लिया जाएगा। जांच में यदि रिपोर्ट पॉजिटिव आती है तो सभी का फिर से अलग-अलग टेस्ट किया जाएगा। यदि निगेटिव आती है तो उन 10 लोगों को कोरोना संबंधित संक्रमण नहीं होने की पुष्टि कर दी जाएगी। इससे जांच का दायरा बढ़ेगा तो वहीं जांच किट की खपत भी कम होगी।

सीएमओ ने कबीरचौरा स्थित मंडलीय अस्पताल, रामनगर स्थित राजकीय अस्पताल समेत पांच ऐसे अस्पतालों का निरीक्षण किया जो मरीजों के लिहाज से कमजोर साबित हो रहा था। उन्होंने निर्देश दिया कि इमरजेंसी सेवा पूर्व की भांति शुरू करने के साथ ही सर्जरी आदि की प्रक्रिया शुरू करें। टीकाकरण आदि का कार्य भी प्रारंभ करें ताकि कोरोना से इतर मरीजों को इलाज के बाबत राहत मिले।  

Posted By: Saurabh Chakravarty

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस