वाराणसी, जेएनएन। नीति आयोग की ओर से प्रदेश की स्वास्थ्य व्यवस्था की तस्वीर दिखाने के बाद प्रदेश सरकार के निशाने पर पूर्ववर्ती सरकारें हैं। पूर्वांचल के दौरे पर गुरुवार को बनारस पहुंचे स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने इसके लिए माया-अखिलेश को जिम्मेदार ठहराया। गाजीपुर रवाना होने से पहले होटल क्लार्क्‍स में मीडिया से मुखातिब स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि मायावती एनआरएचएम घोटाले की मेन आर्किटेक्ट हैं। साथ ही साथ वे जननी हैं उत्तर प्रदेश में स्वास्थ्य सेवाएं बिगाडऩे की। उनके बबुआ (अखिलेश यादव) ने भी पांच साल में उसमें कोई सुधार नहीं किया। अब दोनों की ओर से बीजेपी को सीख देना किसी भी तरह शोभा नहीं देता।

उन्होंने कहा कि नीति आयोग की ओर से जारी आंकड़े 2017 के हैं जिस साल हमारी सरकार आई। उसमें शामिल 23 में से 15 बिंदुओं पर 17 के अंत तक सुधार कर दिया गया। शेष आठ बिंदुओं पर जो कमी आई, उनमें 2018 के आंकड़ों में सुधार दिखेगा। स्वास्थ्य मंत्री ने मायवती को निशाने पर लेते हुए कहा कि  किस प्रकार विरासत में मिली खराब व्यवस्था सुधारी जाती है उसे भाजपा से सीखना चाहिए। लोकसभा चुनाव में सपा- बसपा के गठबंधन को सिद्धार्थनाथ सिंह ने एक बार फिर अवसरवादी ठहराया। कहा वे अवसरवादी लोग थे और अवसरवादी जोड़ी बनी। उससे पहले अवसरवादी लड़कों की भी जोड़ी बनी और जब फायदा नहीं मिला तो छूट गए। रही बात बंगाल की तो वहां हमेशा परिवर्तन के नाम पर वोट पड़ते रहे। ममता भी परिवर्तन के नाम पर आईं लेकिन जब वाम पंथियों का आइना बनीं तो जनता को विकल्प के रूप में बीजेपी समझ में आई जो विकास करती है। इस कारण ही भाजपा वहां खड़ी हो सकी। इसके बाद वे गाजीपुर रवाना हो गए जहां पर जिला अस्‍पताल की जांच के दौरान स्‍वास्‍थय सुविधाएं और बेहतर करने की अधिकारियों को हिदायत दी।

चमकी बुखार यूपी में बेधार फिर भी सरकार हर मोर्चे पर तैयार

चमकी बुखार पर स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश में शांति है लेकिन इलाज की व्यवस्था पूरी है। वैसे भी 2017-18 की अपेक्षा बच्चों की मौत में 67 फीसद  गिरावट है। उन्होंने सतर्कता की बाबत कहा कि इसलिए ही पूर्वांचल के दौरे पर निकले हैं ताकि व्यवस्था परख सकें। तीन बार इंटर गवर्नमेंटल बैठकें की जा चुकी हैं और मुख्यमंत्री जी निरीक्षण कर चुके हैं। पिछले साल 38 जिलों में कार्य किया गया लेकिन इस साल 75 जिलों में जेई, एईएस, संचारी रोग को लेकर एक जुलाई से मासिक अभियान लांच किया जा रहा है। दस्तक भी प्रोग्राम का एक हिस्सा है। 

डाक्टर-दलाल गठजोड़ पर बोले, चीजें बेहतर करने का कर रहे प्रयास

दीनदयाल अस्पताल और फिर मंडलीय चिकित्सालय में सामने आए डाक्टर- दलाल गठजोड़ पर स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि चीजों को बेहतर करने का निरंतर प्रयास किया जा रहा है। हमारे अधिकारी आए थे। डाक्टर पकड़े गए और उन्हें सस्पेंड करने के साथ सीएमएस पर भी कार्रवाई की गई।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Abhishek Sharma