वाराणसी, जेएनएन । जेल से बनारस के व्यापारी को फोन पर धमकी देने के आरोपित पूर्व खनन मंत्री गायत्री प्रजापति को लखनऊ जेल से यहां जिला कारागार लाने के प्रयास किए जा रहे हैं। इसके तहत बी वारंट लखनऊ जिला जेल भेजा गया है। चार्जशीट भी जल्द दाखिल होगी।

नाबालिग से दुष्कर्म के मामले में लखनऊ जेल में बंद पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति पर नौ जून को जंगमबाड़ी निवासी फर्नीचर कारोबारी अरविंद तिवारी को फोन पर धमकी देकर कमीशन मांगने का आरोप है। विवेचना कर रहे दशाश्वमेध थाने के  इंस्पेक्टर बालकृष्ण शुक्ल ने गायत्री का नाम मुकदमे से निकाल दिया। दैनिक जागरण ने जब यह खुलासा किया तो एसएसपी ने इंस्पेक्टर को निलंबित कर नए सिरे से जांच क्राइम ब्रांच को सौंप दी। 

एसपी क्राइम ज्ञानेंद्र नाथ की निगरानी में हो रही विवेचना में अब सुबूतों के आधार पर गायत्री का नाम चार्जशीट में जोड़ा जा रहा है। कुछ दिनों में चार्जशीट तैयार होगी। इसके साथ ही इस मुकदमे के वांछित गायत्री को लखनऊ से जिला कारागार वाराणसी लाने की प्रक्रिया फिर शुरू की गई है। क्राइम ब्रांच के विवेचना अधिकारी ने कोर्ट से बी वारंट लेकर लखनऊ जेल में तामील कराया है। अब लखनऊ जेल के अधिकारियों की जिम्मेदारी है कि वे बी वारंट पर अमल करते हुए गायत्री को बनारस जेल पहुंचाएं। इससे पहले भी बी वारंट लखनऊ जेल भेजा गया था लेकिन मेडिकल आधार पर गायत्री को यहां नहीं पहुंचाया गया।

Posted By: Abhishek Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस