वाराणसी, जेएनएन। पूर्वांचल के अमूमन सभी जिलों में गंगा की बाढ़ चौबीस घंटों से भले ही उतरने लगी हो मगर तटवर्ती इलाकों में दुश्‍वारियां जस की तस हैं। गंगा के पलट प्रवाह की वजह से वरुणा, असि के साथ ही गोमती नदी में भी उफान आने से तटवर्ती इलाकाें में बाढ़ की स्थिति है। तटवर्ती इलाकों में खेत खलिहान पूरी तरह डूब चुके हैं। ढाब क्षेत्रों में ही सबसे अधिक सब्जियों की खेती होती थी लिहाजा सब्जियों की फसल चौपट होने से किसानों के सामने कमाई करने का बड़ा मौका खत्‍म हो गया है। वहीं धान की फसल कुछ हद तक बची हुई है। कई निचले इलाकों व कालोनियों में अब भी आने-जाने का साधन नाव होने की वजह से राहत सामग्री नाव से भेजी जा रही है।  

गंगा में जलस्‍तर में कमी आने के साथ ही गंगा वरुणा के तटवर्ती इलाकों में लोगों ने राहत की सांस ली है। गंगा के जलस्‍तर में कमी आने के बाद भी गंगा अब भी खतरा बिंदु से ऊपर ही बह रही हैं। इससे कई निचले इलाके अब भी बाढ़ की जद में हैं। पानी कम होने की जो गति है उससे उम्‍मीद है एक सप्‍ताह बाद ही लोगों के घरों से बाढ़ का पानी निकल सकेगा। वहीं जिन इलाकों में बाढ़ का पानी कम हो रहा है उन इलाकों में गंगा गाद और कीचड़ छोड़ती हुई जा रही हैं। 

सुबह आठ बजे गंगा का जलस्‍तर

जिला

खतरा चेतावनी वर्तमान रुख 
मीरजापुर 77.72 76.724 76.88 घटाव
वाराणसी  71.26 70.26 71.46 घटाव
गाजीपुर 63.10 62.10 64.43 घटाव
बलिया 57.61 56.61 59.93 स्थिर 

पूर्वांचल में गंगा का हाल : गंगा का जलस्‍तर लगातार कम होने से मीरजापुर में गंगा अब खतरा बिंदु से कम हो चुकी हैं। शाम तक गंगा यहां चेतावनी बिंदु से भी कम हो जाएंगी। वहीं वाराणसी में गंगा का जलस्‍तर जिस तरह कम हो रहा है उम्‍मीद है रात तक गंगा खतरा बिंदु से नीचे आ जाएंगी। मगर चेतावनी बिंदु से कम होने में चौबीस घंटों से अधिक का समय लगेगा। जबकि गाजीपुर और बलिया जिले में गंगा में घटाव का रुख है उम्‍मीद है अगले चौबीस से 48 घंटों में गंगा यहां खतरा बिंदु से कम हो जाएंगी। हालांकि पानी कम होने के साथ ही अब तटवर्ती इलाकों में कटान शुरू हो चुकी है। ऐसे में कई गांवों में उतर रही बाढ़ से खतरा बढ़ गया है।

गाजीपुर में छात्रों से भरी नाव पलटी : गहमर थाना क्षेत्र के भतौरा गांव स्थित जच्चा- बच्चा केंद्र के पास बाढ़ के पानी में स्कूली छात्रों से भरी नाव पलट गई। शोर मचाने के बाद ग्रामीणों ने कड़ी मशक्कत के सभी को सुरक्षित बाहर निकाल लिया। सूचना के बाद डीएम व एसपी एनडीआरएफ व स्थानीय पुलि टीम के साथ मौके पर पहुंचकर राहत बचाव कार्य में जुट गए। विद्यालय जाने के लिए गांव के सभी छात्र नाव पर सवार हुए। ओवरलोड होने के चलते नाव पलट गई। आनन फानन ग्रामीणों ने सभी लोगों को बचा लिया गया। संयोग अच्छा था कि एक बड़ा हादसा होते-होते टल गया।

Posted By: Abhishek Sharma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप