वाराणसी, जेएनएन। गंगा नदी का जलस्‍तर वाराणसी में बीते चौबीस घंटों में थमा है और जलस्‍तर स्थिर बना हुआ है अमूमन यही स्थिति मीरजापुर जिले में भी बनी हुई है। हालांकि मध्‍य प्रदेश से छोड़ा गया चंबल नदी का पानी औरैया-इटावा जिले की सीमा पंचनद में यमुना नदी में मिलने और वहां के बाद प्रयागराज में गंगा नदी में मिलने के बाद गंगा के जलस्‍तर में फाफामऊ, प्रयागराज और सीतामढ़ी में गंगा में बढ़ाव का रुख दर्ज किया जा रहा है। पूर्वांचल में गाजीपुर और बलिया जिले में गंगा नदी के रुख में बढ़ाव दर्ज किया जा रहा है।

बलिया में जहां गंगा दोबारा खतरा बिंदु पार कर चुकी हैं वहीं गाजीपुर में गंगा नदी चेतावनी बिंदु के पास पहुंच रही है। पूर्वांचल में सावन माह से गंगा में बढोतरी के बाद से चिंता का रुख रहरहकर बना हुआ है। गंगा का पानी बीते दिनों कई जिलों में निचले इलाकों में फैल चुका है। हालांकि सप्‍ताह भर पूर्व जलस्‍तर में कमी दिखने लगी और पानी कम होने लगा। मगर मप्र से चंबल का पानी अब गंगा तक पहुंचने लगा है जिसकी वजह से जलस्‍तर में तीन दिनों से बढाव दर्ज किया जा रहा है। बलिया जिले में बढाव के बीच गंगा खतरा बिंदु से दो सेमी ऊपर बह रही है और गाजीपुर जिले में गंगा चेतावनी बिंदु से करीब 50 सेमी कम हैं।

हालांकि वाराणसी और मीरजापुर में गंगा फ‍िलहाल स्थिर हैं और पानी नहीं बढ रहा है। हालांकि फाफामऊ, सीतामढी और प्रयागराज में जलस्‍तर लगातार बढते रहने से वाराणसी में दोबारा पानी बढने की आशंका बरकरार है। वाराणसी में गंगा घाटों पर पानी बढने से दोबारा घाटों के डूबने की संभावना है वहीं सहायक नदियों में भी पानी बढने के बाद तटवर्ती लोगों को चिंता होने लगी है। बलिया जिले के कई इलाकों में गंगा और घाघरा कटाव भी कर रही हैं। वहीं कुछ इलाकों में बाढ का पानी अभी भी खेतों में लगा हुआ है।

पूर्वांचल में गंगा नदी का रुख

जिला

खतरा चेतावनी वर्तमान  रुख
मीरजापुर  77.72 76.724 73.75 स्थिर
वाराणसी 71.26 70.26 68.30 स्थिर
गाजीपुर 63.10 62.10 61.59 बढाव
बलिया 57.61 56.61 57.63 बढाव

 

Posted By: Abhishek Sharma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप