बलिया, जागरण संवाददाता। जनसेवा केंद्र खोल ग्राहकों के खाते से अंगूठे का क्लोन बनाकर साइबर ठगी कर पैसा निकालने वाले गिरोह का पर्दाफाश हुआ है। साइबर सेल, एसओजी व सहतवार थाने की संयुक्त टीम ने पांच संचालक को गिरफ्तार किया है। उनके पास से तीन लैपटाप, एटीएम स्वैपिंग मशीन व रबड़ क्लोन सहित अन्य इलेक्ट्रानिक उपकरण बरामद हुए हैं। गिरफ्तार किए गए संदीप वर्मा रेवती, संतोष यादव रामपुर, सूरज यादव हडिहाकला, विनोद शर्मा स्टेशन मालगोदाम रोड व रमेश उर्फ पिन्टू रेवती के निवासी हैं। एएसपी दुर्गा प्रसाद तिवारी ने बुधवार को प्रेसवार्ता में साइबर ठगी कर बैंक खातों से पैसा निकालने वाले गिरोह का खुलासा किया। उन्‍होंने सभी आरोपितों को मीडिया के सामने पेश किया।

हड़िहाकला गांव में संदीप वर्मा व सुरेश यादव कई बैंकों का जनसेवा केंद्र चला रहे थे। 29 अगस्त 2021 को बगल के कुसौरी कला निवासी शिक्षक इंद्र प्रकाश पांडेय जनसेवा केंद्र से अपने खाते से अंगूठा लगा पांच हजार रुपये निकाले। संचालक संदीप ने उनका फिंगर प्रिंट ले लिया। कुछ दिन बाद उनके खाते से दस-दस हजार कर 2.50 लाख रुपये निकाल लिये। खबर लगने पर इंद्र प्रकाश के होश उड़ गए। उन्होंने सहतवार थाना में इसकी शिकायत की। इसके बाद दे ही पुलिस जांच में जुट गई थी।

खातेधारक का कागज पर फर्जी खाता खोल करते थे साइबर ठगी

शिक्षक इंद्र प्रकाश की शिकायत पर पुलिस की जांच में एक एकाउंट मिला, जिसमें पैसा ट्रांसफर हुआ था। जांच में पता चला कि जनसेवा संचालक किशी देवी के कागजात से एक खाता खोल खुद संचालित कर रहे हैं। खातेधारकों के फिंगर का रबर क्लोन बनाकर उस खाते में पैसा ट्रांसफर करने के बाद एटीएम से पैसा निकाल लेते थे। 

Edited By: Saurabh Chakravarty