वाराणसी, जेएनएन। छात्रगुटों में मारपीट व तोड़फोड़ की घटना को उदय प्रताप महाविद्यालय ने गंभीरता से लिया है। इस मामले में आरोपित छात्रसंघ अध्यक्ष अनुराग सिंह (अन्नू) समेत प्रशांत पांडेय (बाघा), पंकज सिंह (बागी) व शिवम सिंह के खिलाफ शिवपुर थाने में प्राथमिकी भी दर्ज कराई है। वहीं प्राचार्य डा. अवधेश सिंह ने छात्रसंघ अध्यक्ष सहित चारों आरोपितों को निलंबित कर दिया है। प्राचार्य ने प्रकरण की जांच के लिए छात्र कल्याण अधिष्ठाता संत कुमार सिंह के संयोजकत्व में तीन सदस्यीय समिति गठित की है।

चीफ प्रॉक्टर डा. धर्मेद्र कुमार सिंह, मुख्य गृहपति डा. आलोक कुमार सिंह समिति के सदस्य हैं। प्राचार्य ने समिति से तीन दिन में रिपोर्ट मांगी है। बुधवार दोपहर करीब 1.15 मिनट बजे कालेज परिसर में ही छात्रगुट भिड़ गए और लात-घूंसे चलने लगे। इस बीच कुछ छात्रों ने विज्ञान भवन के सामने रखी आधा दर्जन प्लास्टिक की कुर्सियां भी तोड़ दी। मनोविज्ञान विभाग के एसोसिएट प्रोफेसर डा. संजीव सिंह की कार का शीशा व दरवाजा तोड़ दिया। मारपीट से अफरातफरी मच गई। मौके पर पहुंचे प्राचार्य से भी छात्र उलझ गए व धक्का-मुक्की की। छात्रों के आक्रोश को देखते हुए पुलिस फोर्स बुला ली गई।

कालेज प्रशासन ने सीसी टीवी कैमरे से तोड़फोड़ करने वाले को चिह्नित कर उनके खिलाफ कार्रवाई की। प्राचार्य ने फुटेज पुलिस को सौंप दिया। छात्रसंघ अध्यक्ष ने भी दर्ज कराई प्राथमिकी उधर छात्रसंघ अध्यक्ष अध्यक्ष अनुराग सिंह (अन्नू) ने भी मारपीट करने वाले छात्रों के खिलाफ शिवपुर थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई है। इसमें उन्होंने विरेन प्रताप रघुवंशी, अनिकेत सिंह, आशुतोष सिंह, आदित्य सिंह, अभिषेक सिंह के खिलाफ घातक हथियार से हमले का आरोप लगाया है। कहा कि क्लास समाप्त होने पर कक्ष से बाहर निकल रहे थे। इस दौरान मेरे साथ विनय सिंह को भी विरोधी छात्रों ने बुरी तरह पीटा।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस