मीरजापुर [राज कुमार सिंह]। चुनार से चोपन के बीच अब इलेक्ट्रिक रूट पर सरपट एक्सप्रेस ट्रेन दौड़ेगी। वहीं मूरी व त्रिवेणी एक्सप्रेस ट्रेन चुनार में इंजन बदलने की झंझट से जल्द ही यात्रियों को निजात मिलेगी। इसकी कवायद शुरू हो गई है और इलेक्ट्रिक ओएचई की जांच करने के लिए चार दिसंबर को कमिश्नर रेलवे सेफ्टी (सीआरएस) की टीम आने वाली है। टीम द्वारा जांच पड़ताल करने के बाद इलेक्ट्रिक इंजन वाली सभी ट्रेन आगे के लिए जाना शुरू हो जाएगी। रेलवे विभाग की तरफ से पूरी तैयारी कर लिया गया और अधिकारी भी प्रतिदिन जांच पड़ताल कर रहे है कि टीम द्वारा जांच में कोई कमी न मिलने पाए। सिर्फ बाकी है तो सीआरएस की जांच, जांच रिपोर्ट पेश करने के बाद इंजन बदलने से मुक्ति मिल जाएगी।     

लखनऊ से चोपन तक जाने वाली त्रिवेणी एक्सप्रेस व हटिया से मूरी तक जाने वाली मूरी एक्सप्रेस में इलेक्ट्रिक इंजन लगी है लेकिन चुनार के आगे इलेक्ट्रिक ओएचई की व्यवस्था न होने के कारण दोनों ट्रेन के इंजन को बदलना पड़ता है। यही नहीं चोपन से लखनऊ तथा मूरी से हटिया की तरफ जाने के दौरान भी चुनार में इंजन को बदला जाता है। इंजन बदलने के दौरान दोनों ट्रेन काफी देर तक खड़ी रहती है और इस दौरान लगभग आधा घंटे या एक घंटे देर बाद ट्रेन आगे के लिए जाती है। इंजन बदलने के दौरान ट्रेन में सवार यात्रियों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है और अत्यधिक परेशानी रात में होता है। यात्रियों की परेशानियों को देखते ही रेलवे विभाग ने इंजन बदलने की समस्या से निजात दिलाने का समाधान निकाल लिया और आगे तक चोपन तक इलेक्ट्रिक इंजन के ही सहारे सरपट दौड़ाया जाएगा।

इस बारे में इंजीनियर, मंडल सिग्नल दूरसंचार रेलवे के सुजीत सिंह ने कहा कि इलेक्ट्रिक इंजन वाली मूरी व त्रिवेणी एक्सप्रेस ट्रेन को आगे जाने के लिए सीआरएस टीम द्वारा जांच किया जाएगा। टीम के रिपोर्ट के आधार पर रेलवे के उच्चाधिकारियों के निर्देश पर इलेक्ट्रिक ट्रेन आगे के लिए जाना शुरू हो जाएगी।

                                  

Posted By: Saurabh Chakravarty

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप