वाराणसी, इंटरनेट डेस्‍क। रैदासियों सहित तमाम प्रमुख रा‍जनीतिक दलों की ओर से पंजाब में चुनाव की तिथि रविदास जयंती को देखते हुए बदलने का अनुरोध चुनाव आयोग ने स्‍वीकार करते हुए अब 20 फरवरी को मतदान तय किया है। इससे पूर्व 14 फरवरी को पंजाब में मतदान होना था और 16 फरवरी को संत रविदास जयंती के लिए लाखों रैदासिया समुदाय के लोग पंजाब से वाराणसी स्थित सीर गोवर्धन में गुरु चरणों की वंदना करने आते हैं।

दरअसल पूर्व में चुनाव आयोग की ओर से 14 फरवरी को पंजाब में चुनाव घोषित किया गया था। जबकि 16 फरवरी को संत रविदास जयंती के मौके पर पूर्व से ही लाखों रैदासिया समुदाय के लोग वाराणसी स्थित संत रविदास की कर्मभूमि सीर गोवर्धनपुर में आकर गुरु चरणों की वंदना, भजन कीर्तन और भंडारा में हिस्‍सा लेते हैं। इस लिहाज से पंजाब में एक साथ चुनाव के दिन लाखों मतदाताओं की कमी होने की वजह से मतदान में काफी कमी आने की संभावना को देखते हुए पहले पंजाब के मुख्‍यमंत्री ने चुनाव आयोग से तिथि बदलने की अपील करते हुए पत्र लिखा था। इसके बाद भाजपा की ओर से भी चुनाव की तिथि आगे बढ़ाने की अपील की गई थी। वहीं सोमवार को जालंधर में हजारों रैदासियों ने मार्ग जाम कर प्रदर्शन भी किया था। इसके बाद दोपहर में आयोग ने तिथि बदलने की सूचना जारी कर दी।

वहीं वाराणसी के सीर गोवर्धन में चल रही तैयारियों के बीच चुनाव की तिथि बदलने की जानकारी होने के बाद मंदिर प्रशासन की ओर से भी आयोग का आभार जताते हुए अब नए सिरे से पंजाब से आने वाले रैदासियों के स्‍वागत की तैयारियां करने की जानकारी दी है। बताया कि अब रैदासी बिना किसी हिचक के गुरु के चरणों की वंदना सीर आकर कर सकते हैं और वापस पंजाब जाकर मतदान भी कर सकते हैं। 

यह भी पढ़ें : पंजाब विधानसभा चुनाव में छाया बनारस, सत्ताधारी ही नहीं विपक्षी दल और जनता भी चुनाव टालने के पक्ष में

यह भी पढ़ें :  पंजाब नहीं सीर गोवर्धन में होंगे लाखों वोटर, पंजाब के सीएम ने की चुनाव टालने की मांग, जानिए पूरा प्रकरण

Edited By: Abhishek Sharma