जागरण संवाददाता, वाराणसी : श्रीकाशी विश्वनाथ धाम का लोकार्पण होने के बाद अब शासन पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए प्रस्तावित योजनाओं को धरातल पर लाने में जुटी है। हरहुआ स्थित उंदी ताल में प्रस्तावित इको टूरिस्ट स्पाट (सिटी फारेस्ट) को अमलीजामा पहनाने में तेजी से जुटी है। वाराणसी विकास प्राधिकरण (वीडीए) की ओर से नामित दिल्ली की एजेंसी आधार शिला ने फाइनल डीपीआर तैयार कर दी है। 24.95 करोड़ का डीपीआर पर्यटन विभाग के अनुमोदन एवं वित्त पोषण के लिए पर्यटन विभाग को भेजा गया है।

पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए शासन की ओर से कई योजनाएं काशी में प्रस्तावित है। श्रीकाशी विश्वनाथ धाम का विस्तार होने के साथ गंगा में नौका विहार शुरू हो गया है। चार बड़े जलयाल चल रहे हैं। वहीं, गंगा उस पार टेंट सिटी के लिए अभी तक सात एजेंसी आई हैं। उंदी ताल में 78.5 एकड़ में प्रस्तावित इको टूरिस्ट स्पार्ट के लिए एजेंसी आधार शिला ने 19.66 करोड़ का रिक्वेस्ट फार प्रपोजल तैयार कर वीडीए को सौंपा था।

पर्यटकों को यह मिलेगी सुविधाएं

मुख्य प्रवेश द्वार पर गार्ड हाउस, टायलेट, दो व चार पहिया तथा बस पार्किंग, टिकट घर, रेंटल साइकिल क्षेत्र तथा गोल्फ कार्ट क्षेत्र विकसित होगा।

-बोटिंग क्षेत्र के अंतर्गत बोटिंग लेक व क्लब हाऊस (टिकट घर एवं पब्लिक यूटिलिटि के साथ)।

-ईको पार्क में साइकिल व पेडेसट्रीयन ट्रैक, चिल्ड्रेन प्ले एरिया, ओपेन जिम।

-बुद्धा थीम पार्क में 4.37 एकड़ भूमि पर बाैद्ध दर्शन पर आधारित लैंडस्केप के साथ औषधीय पौधे युक्त बोटेनिकल गार्डन, ध्यान स्थल एवं तालाब आदि।

-वेलनेस सेंटर एवं केंपिंग जोन में 2.75 एकड़ भूमि पर वेलनेस सेंटर एवं 1.86 एकड़ भूमि पर कैंपिंग जोन।

-ईको-जोन में जलाशयों एवं वेट लैंड के संरक्षण, जैव विविधता, जोन में साइकिल व पैदल ट्रैक (पथ), बायोलाजिकल / प्राकृतिक अपशिष्ट जल शुद्धिकरण प्रणाली, ठोस अपशिष्ट प्रसंस्करण प्रणाली, सौर ऊर्जा आधारित विद्युत उत्पादन, बर्ड सेंचुरी, वाच टावर, जेट्टी, वनीकरण आदि।

Edited By: Saurabh Chakravarty