वाराणसी, जेएनएन। हिंदी हमारी मातृभाषा है। हम सब हिंदी अच्छी तरह समझते व बोलते भी हैं। इसके बावजूद सीबीएसई दसवीं के कुछ छात्रों को हिंदी कठिन भी लगती है। इसके पीछे पढ़ाई का माध्यम अंग्रेजी होना मुख्य कारण है। कोई विषय कठिन है या सरल यह हमारी तैयारी पर निर्भर करता है। दरअसल, अंग्रेजी माध्यम के विद्यार्थी हिंदी विषय पर कम ध्यान देते हैं। इसके कारण अन्य विषयों की तुलना में उन्हें इसमें कम अंक मिलते हैं। सीबीएसई की दसवीं कक्षा में हिंदी के दो पेपर होते हैं। 'अ' व  'ब'। दोनों ही 80 अंक के पेपर हैं। अंकों की दृष्टि से हिंदी का समान महत्व है। परीक्षा की तैयारी के लिए समय काफी कम बचा है। ऐसे में हिंदी विषय पर ध्यान देने की जरूरत है। इसके लिए सटीक प्लानिंग करनी होगी। मॉडल पेपर को तीन घंटे में हल करने का प्रयास करें, ताकि लेखन का अभ्यास बना रहें और समय रहते कमियों को दूर किया जा सके। हिंदी में अच्छे अंक लाने के लिए विद्यार्थियों को सभी पाठों का समान अध्ययन करने की जरूरत है। अच्छे अंकों के लिए व्याकरण, गद्यांश व मात्राओं पर भी विशेष ध्यान के साथ ही राइटिंग पर ध्यान दें। 

डालिम्स सनबीम स्कूल (चौबेपुर) के प्रवक्ता गिरीश चौबे के अनुसार सीबीएसई दसवीं के हिंदी पेपर में अच्छे अंक हासिल करने के कुछ टिप्स इस प्रकार हैं...

टिप्स 

- तैयारी का अच्छा तरीका है कि पिछले पांच साल के पेपर को पांच बार करें हल। 

- परीक्षा के 15 मिनट अतिरिक्त समय में पेपर समझ लें। फिर उत्तर लिखना शुरू करें।

- प्रश्नों के उत्तर की शब्द सीमा निर्धारित है। ऐसे में निर्धारित शब्द सीमा में ही उत्तर देने का प्रयास करें। अनावश्यक विस्तार देने से अधिक अंक मिलने वाला नहीं है। 

- पांच साल का सैंपल पेपर हल करें। इससे लिखने व पेपर के पैर्टन को समझेंगे। 

- प्रश्नों का उत्तर यथासंभव क्रमवार देने का प्रयास करें। कोई प्रश्न समझ में न आए तो आगे बढ़ जाएं। समय न बर्बाद करें। 

- कठिन प्रश्नों का उत्तर अंत में देने का प्रयास करें। इससे समय की बचत होगी। 

-अपठित गद्यांश प्रश्नों को पहले अच्छी तरह समझ लें। फिर उसका उत्तर दें। 

-व्याकरण खंड में मुहावरों पर भी विशेष ध्यान देने की आवश्कता। 

-रचनात्मक लेखन में प्रारूप का ध्यान रखें। सभी नियमों के अनुसार लेखन करें। 

-निबंध, आलेख व फीचर आलेख के लिए करेंट टॉपिक पर फोकस करें। 

-पत्रों का प्रारूप सही से लिखने का अभ्यास करें। पत्रलेखन शैली सटीक हो। 

-व्याकरण में परिभाषाएं व उदाहरणों में वर्तनी पर विशेष दें ध्यान। 

गुरुमंत्र 

- परीक्षा के समय किसी प्रकार का तनाव न लें।

- एकाग्रचित्त होकर योजनाबद्ध अध्ययन करें।

- भाषा संबंधित अशुद्धियों को दूर करने का करें प्रयास।

- लिखावट पठनीय व सुंदर हो इसका भी दें ध्यान। 

- अनावश्यक कापी भरने का ख्याल मन से निकाल दें। सटीक दें उत्तर। 

- अलग-अलग खंडों के उत्तर एकसाथ दें।

- लगातार देर तक पढऩे से बेहतर है कि 2-2 घंटे पर ब्रेक लेकर पढ़ें। 

कैसे-कैसे होंगे प्रश्न 

- हाईस्कूल में हिंदी का पेपर 'क', 'ख', 'ग' और 'घ' चार खंडों में। 

- एक अंक के प्रश्नों का उत्तर लगभग 15-20 शब्दों में लिखिए। 

- दो अंकों के प्रश्नों का उत्तर लगभग 30-40 शब्दों में लिखिए। 

- तीन अंकों के प्रश्नों का उत्तर लगभग 60-70 शब्दों में लिखिए।

- पांच अंकों के प्रश्नों का उत्तर लगभग 120-150 शब्दों में लिखिए। 

Posted By: Abhishek Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस