गाजीपुर, जेएनएन। दलित बस्तियों पर वर्ग विशेष के हमलों पर सीएम योगी आदित्यनाथ का रुख सख्त होने के बाद भी मामला थम नहीं रहा है। जौनपुर तथा आजमगढ़ के बाद अब गाजीपुर में वर्ग विशेष के लोगों ने दलित बस्ती पर हमला कर 13 लोगों को घायल कर दिया है। करीब घंटा भर तक चले इनके दुस्साहस के कारण 13 घायलों में तीन गंभीर है। पुलिस ने 21 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया है। सभी फरार हैं, जबकि बस्ती में पीएसी को तैनात किया गया है। 

गाजीपुर के गहमर थाना क्षेत्र के गोड़सरा गांव में बुधवार को अश्लील गाना बजाने से मना करने पर लाठी-डंडे से लैस एक समुदाय के लोगों ने अनुसूचित जाति बस्ती पर हमला कर दिया। इनके अचानक इस हमले में दलित बस्ती के 13 लोग घायल हो गए हैं। इनमें तीन का जिला अस्पताल में इलाज चल रहा है। वहां पर करीब घंटा भर बवाल मचाने वाले दुस्साहसी तब भागे जब पुलिस वहां पहुंची। इस मामले में मुख्य आरोपित हैदर, तनवीर, मुहम्मद अली सहित 21 के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया। सभी आरोपित फरार हैं। एहतियातन पीएसी तैनात कर दी गई है। वहां पर डीएम-एसपी ने भी मुआयना किया।

गाजीपुर में बुधवार को दिन में ट्रैक्टर चालक तेज आवाज में अश्लील गाना बजाते हुए अनुसूचित जाति बस्ती की तरफ जा रहा था। वहां मनरेगा में काम करके बस्ती के कुछ मजदूर लौट रहे थे। उन्होंने बस्ती का हवाला देते हुए उस चालक से अश्लील गाना बजाने से मना किया। यह बात चालक को नागवार गुजरी। उसने इसकी सूचना ट्रैक्टर संचालक शौकत के पुत्र हैदर को दी। हैदर दर्जन भर से अधिक साथियों के साथ लाठी-डंडे से लैस होकर बस्ती में पहुंचा और हमला कर दिया। हैदर अपने मित्र तनवीर, मुहम्मद अली सहित करीब 50 अधिक साथियों को इकट्ठा करके लाठी-डंडे, धारदार हथिायारों से लैस होकर पूरी दलित बस्ती पर हमला बोल दिया. इस दौरान बुजर्ग, किशोर, बच्ची, महिलाएं जो मिला उसे पीटा गया। 

जिलाधिकारी ओमप्रकाश आर्य, पुलिस अधीक्षक ओमप्रकाश सिंह के साथ एसपी ग्रामीण गोपीनाथ सोनी, सेवराई एसडीएम विक्रम सिंह और जमानिया एसडीएम सत्यप्रिय सिंह के साथ भारी संख्या में पुलिस फोर्स पहुंची। घायलों को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र भदौरा में भर्ती कराया गया। गंभीर हालत को देखते हुए चिकित्सकों ने तीन भाइयों जालिम राम (45), बलिस्टर (35) और सुग्रीव (40) को जिला अस्पताल के लिए रेफर कर दिया। 

थानाध्यक्ष विमल कुमार मिश्र ने बताया कि पीडि़त पक्ष की तहरीर पर हैदर, तनवीर, मुहम्मद अली समेत 21 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। इन सभी आरोपितों को गिरफ्तार करने के लिए पुलिस टीम द्वारा संभावित ठिकानों पर छापेमारी की जा रही है। पांच लोगों को हिरासत में लेकर जा पूछताछ की जा रही है। 

जल्द ही पुलिस की गिरफ्त में होंगे आरोपी

एसपी डॉ. ओमप्रकाश सिंह ने बताया कि ट्रैक्टर चालक के गाना बजाने को लेकर दो समुदायों के बीच मारपीट हुई है। यहां शांति व्यवस्था कायम रखने व दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई के लिए निर्देश दिए गए हैं। दोषी किसी भी कीमत पर बच नहीं पाएंगे। वह जल्द ही पुलिस की गिरफ्त में होंगे।

जौनपुर में भी दलिताें पर किया गया था हमला

मालूम हो कि बीते 9 जून यानी मंगलवार की शाम गांव के वर्ग विशेष व अनुसूचित जाति के बच्चों में बकरी व भैंस चराने को लेकर विवाद हो गया था। प्रधान पति आफताब उर्फ हिटलर के हस्तक्षेप पर मामला शांत हो गया था। इसके बाद रात करीब साढ़े आठ बजे वर्ग विशेष की हिंसक भीड़ ने अनुसूचित जाति बस्ती पर धावा बोल दिया था। जो मिला उसकी पिटाई की। तोडफ़ोड़ व आगजनी की। कई लोगों के घर व मड़हे जल गए। कई वाहन क्षतिग्रस्त हो गए। तीन बकरियां व एक भैंस आग में झुलसकर मर गईं।

जिलाधिकारी दिनेश कुमार सिंह व एसपी अशोक कुमार के भारी पुलिस बल के साथ आने पर हिंसक भीड़ नियंत्रित हो सकी थी। पुलिस ने घटना के दिन ही 35 और दूसरे दिन दो आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया था। फरार चल रहे बाकी 17 नामजद आरोपितों पर एसपी ने शुक्रवार को पांच-पांच हजार रुपये का पुरस्कार घोषित कर दिया था। 17 इनामिया आरोपितों में से एक सलमान को पुलिस ने रविवार यानी 14 जून को गिरफ्तार कर लिया था। अब तक पुलिस नामजद 54 में से 38 आरोपितों को गिरफ्तार कर चुकी है। पुलिस ने अज्ञात आरोपितों में से 15 को चिह्नित कर लिया है।

Edited By: Saurabh Chakravarty