वाराणसी [विकास बागी]। दो दिन में चार पुलिसकर्मियों की रिपोर्ट पॉजिटिव आने से पुलिस महकमे में एक बार फिर से हड़कंप मचा हुआ है। खाकी पर कोरोना का संकट इस कदर गहराया कि दो दिन तक एसएसपी ऑफिस को बंदकर उसे सैनिटाइज करने का काम हुआ। बुधवार को एक बार फिर सैनिटाइजेशन की प्रक्रिया कर दोपहर बाद एसएसपी ऑफिस खुलेगा। वाराणसी में अब तक 19 पुलिसकर्मी कोरोना पॉजिटिव निकल चुके हैं।

वाराणसी में अब तक कोरोना के संक्रमण की चेन में तब्लीगी जमात से जुड़े लोगों के साथ ही मड़ौली के दवा कारोबारी से जुड़े लोग सर्वाधिक संक्रमित पाए गए थे। वर्तमान में दवा कारोबारी की चेन से बड़ी पुलिस की दो चेन हो गई है।

तीसरे से दूसरे स्थान पर पुलिस

तब्लीगी जमात व उनसे जुड़े कोरोना संक्रमण के सर्वाधिक 23 मामले आ चुके हैं। दूसरे नंबर पर मड़ौली मंडुआडीह का दवा कारोबारी था जिसके संपर्क में आकर परिजन समेत 12 अन्य लोगों कोरोना पॉजिटिव हो गए थे। तीसरे नंबर पर पुलिस महकमा था लेकिन बीते एक सप्ताह में सिविल और ट्रैफिक पुलिस से जुड़े छह से अधिक मामले सामने आए और संक्रमण की चेन बनाने के मामले में पुलिस तीसरे से दूसरे स्थान पर आ गई क्योंकि कोरोना पॉजिटिव आए पुलिसकर्मियों की कुल संख्या अब 19 हो चुकी है।

चौकी प्रभारी ने बनाई थी पहली चेन, अप्रैल में हुए थे संक्रमित

कोरोना संक्रमण की पुलिस विभाग में दो चेन बनी। पहली चेन नगर निगम चौकी प्रभारी के संपर्क में आकर बनी। 25 अप्रैल को नगर निगम चौकी प्रभारी समेत सात पुलिसकर्मियों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। 26 अप्रैल को एक और सिपाही कोरोना संक्रमित निकला। नगर निगम चौकी प्रभारी के संपर्क में आकर कुल 10 पुलिसकर्मी वायरस की चपेट में आए थे।

दूसरी कड़ी में एसएसपी आफिस, पुलिस लाइन तक कोरोना का खौफ

पुलिस महकमे में संक्रमण की दूसरी चेन क्षेत्राधिकारी सदर के हमराही ने ऐसी बनाई कि पुलिस लाइन से लेकर एसएसपी आफिस तक कोरोना का खौफ पैदा हो गया। सीओ सदर का हमराही पुलिस लाइन के बैरक नंबर आठ में अन्य सिपाहियों के साथ रहता था। 24 मई को उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई तो हड़कंप मच गया। हमराही के संपर्क में आकर बैरक नंबर आठ और छह में रहने वाले अब तक पांच अन्य सिपाहियों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आ चुकी है।

जान हथेली पर लेकर हॉटस्पाट में 24 घंटे ड्यूटी कर रहे आठ सौ जवान 

कोरोना के संक्रमण से लोगों को बचाने की जद्दोजहद में पुलिसकर्मी भी संक्रमण का शिकार हो रहे लेकिन अपने कर्तव्य के पथ पर फिर भी डटे हैं। एसएसपी प्रभाकर चौधरी ने बताया कि वर्तमान में एक्टिव हॉटस्पाट 68 हॉटस्पाट के साथ अन्य संवेदनशील स्थानों पर लगभग आठ सौ जवान तीन शिफ्ट में 24 घंटे तैनात हैं। जवान ड्यूटी करने के बाद अपने घर तक नहीं जा पा रहे। जो जा रहे, वो अपने परिवार से दूर रह रहे। वाराणसी में अब तक नौ सौ से अधिक पुलिसकर्मियों की कोरोना से संबंधित जांच कराई जा चुकी है।

गाइडलाइन का होगा पालन तभी सुरक्षित रहेगी खाकी

कोरोना का प्रकोप वाराणसी में शुरू होते ही एसएसपी प्रभाकर चौधरी ने सभी थानों को मास्क व सैनिटाइजर के साथ हैंड ग्लव्स उपलब्ध कराया था। जिन पुलिसकर्मियों ने उपलब्ध संसाधनों का उपयोग करते हुए शारीरिक दूरी के मानक का पालन किया, संक्रमित होने से बचे। एसएसपी ने बताया कि पुलिसकर्मियों खासकर जो लोग फील्ड में तैनात हैं, उन्हें समय-समय पर बचाव से संबंधित सामग्री उपलब्ध कराने के साथ ही निर्देश दिए जाते हैं।

संदेश वाहक से खौफ

पुलिस महकमे से लेकर अन्य सरकारी दफ्तरों में इस समय पत्र लेकर आने वाले संदेश वाहक खौफ का पर्याय बन गए हैं। एसएसपी आफिस में संदेश वाहक का काम कर रहे सिपाही की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद मंगलवार को कई दफ्तरों में संदेशवाहक को देखते ही लोग भयभीत हो गए। पत्र रिसिव करना मजबूरी थी तो पत्र को पहले टेबल पर रखवाकर उसपर हस्ताक्षर किया। पत्र लेकर सुरक्षित रखने के बाद कर्मचारी सैनिटाइजर का उपयोग करते नजर आए।

Posted By: Saurabh Chakravarty

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस