वाराणसी (जागरण संवाददाता)। शहरी क्षेत्र में अक्टूबर से सीएनजी (कंप्रेस्ड नेचुरल गैस) बसें चलेंगी। इस बाबत तैयारी शुरू हो गई है। प्रदेश के मुख्य सचिव राहुल भटनागर ने गेल इंडिया लिमिटेड को वाराणसी में बिछाई जाने वाली 37 किलोमीटर लंबी गैस पाइप लाइन का कार्य हर हाल में अक्टूबर तक पूरा कराने का निर्देश दिया है।

उन्होंने काशी में पांच स्थानों पर सीएनजी फिलिंग स्टेशन स्थापित करने के लिए सबसे पहले स्थल चिह्न्ति करने का भी गेल अफसरों को निर्देश दिया है। मुख्य सचिव ने कमिश्नर को इस कार्य में सहयोग करने के लिए कहा है।
मुख्य सचिव राहुल भटनागर एवं भारत सरकार के संयुक्त सचिव आशीष सहित राज्य व केंद्र सरकार के अन्य अधिकारियों की लखनऊ में बैठक हुई।

कमिश्नर नितिन रमेश गोकर्ण ने बताया कि गेल इंडिया लिमिटेड द्वारा ऊर्जा गंगा के तहत वाराणसी मंडल में 570 करोड़ से फूलपुर-हल्दिया गैस पाइप लाइन कार्य तय समय में युद्धस्तर पर पूरा करने को निर्देश दिया गया है। मुख्य सचिव ने जेएनएनयूआरएम की सिटी बसों को अक्टूबर-नवंबर तक सौ फीसद सीएनजी में कन्वर्ट करने का निर्देश दिया है।

सिटी बसों को सीएनजी में कन्वर्ट कराने के अधिभार को स्मार्ट सिटी योजना के तहत पोषित किया जाएगा। कमिश्नर ने बताया कि करखियांव स्थित यूपीएसआईडीसी व महेशपुर औद्योगिक क्षेत्र की इकाईयों में सीएनजी की डिमांड का भी आकलन होगा। मांग के तहत इन क्षेत्रों में भी गैस पाइपलाइन लगेगी।

यहां चौबीस घंटे होगी सीएनजी की उपलब्धता: कमिश्नर ने बताया कि रथयात्र, हरिश्चंद्रघाट, बीएचयू, लहरतारा, डीएलडब्ल्यू क्षेत्र एवं आसपास के इलाकों में अक्टूबर, 2017 से 24 घंटे सीएनजी की उपलब्धता सुनिश्चित हो जाएगी। इन क्षेत्रों में स्थल चयन शीघ्र हो जाएगा।

यह भी पढ़ें: माफिया पर कार्रवाई के लिए बनेगा नया कानून

क्षतिग्रस्त न हो सीवर व पेयजल पाइप लाइन: कमिश्नर ने गेल के अधिकारियों को निर्देशित किया है कि गैस पाइप लाइन बिछाने के दौरान सीवर एवं पेयजल पाइप लाइन को किसी भी हाल में नुकसान न हो। गेल के अधिकारियों ने आश्वस्त किया है कि इस कार्य के दौरान किसी पाइप लाइन को नुकसान नहीं होगा।

यह भी पढ़ें: जींस-टीशर्ट पहन कानपुर की सड़कों पर आइपीएस सोनिया की 'धमाकेदार इंट्री'

Posted By: amal chowdhury