वाराणसी, जेएनएन। लॉकडाउन के चलते बड़ी संख्या में प्रवासी अपने घरों को लौट रहे हैं। वाराणसी समेत पूरे पूर्वांचल में लाखों की संख्या में प्रवासी आए हैं। यूपी में उन्हें रोजगार दिलाना शासन की पहली प्राथमिकता बन गई है।पूर्वांचल के प्रवासियों को रोजगार दिलाने का खाका खींचने मुख्यमंत्री योगी वाराणसी आ रहे हैं। अभी मुख्यमंत्री कार्यालय की ओर से वाराणसी जिला प्रशासन को कोई तारीख नहीं बताई गई है कि सीएम कब वाराणसी का दौरा करेंगे लेकिन प्रशासनिक महकमे में सुगबुगाहट है कि योगी जून के पहले सप्ताह पीएम के संसदीय क्षेत्र आ सकते हैं। मुख्यमंत्री योगी ने बीते 22 मई को गोरखपुर का दौरा किया था। गुरुवार को लखनऊ में डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी अस्पताल का निरीक्षण कर वहां की व्यवस्था देखी। सीएम के निरीक्षण के बाद वाराणसी के प्रशासनिक महकमे ने भी अपनी तैयारी शुरू कर दी है।

जिला प्रशासन का पूरा ध्यान पं. दीनदयाल उपाध्याय राजकीय अस्पताल पर है। यहां पर कोरोना संक्रमित मरीजों का उपचार चल रहा है। अस्पताल में आइसोलेट एक मरीज ने दुर्व्‍यवस्था को लेकर सीएम को ट्वीट किया था। मुख्यमंत्री ने मरीज से फोन पर बात भी की। मुख्यमंत्री ने इस मामले में नाराजगी भी जताई थी जिसके बाद से अस्पताल की व्यवस्था विशेषकर कोरोना संक्रमितों के उपचार, खानपान पर प्रशासनिक अधिकारी नजर रखे हैं।

सीएम के आगमन की तैयारियों के तहत जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने गुरुवार को कैंट रेलवे स्टेशन पर ट्रेनों से आने वाले प्रवासियों के खानपान की व्यवस्था देखने के साथ प्रवासियों से बातचीत कर उनकी समस्याओं को समझा। प्रवासियों से मिलने के बाद डीएम ने कैंट रेलवे स्टेशन परिसर में संचालित कम्युनिटी किचेन के काम को भी देखा। यहां लगभग ढाई हजार पैकेट भोजन प्रतिदिन तैयार होता है।

वाराणसी दौरे के दौरान मुख्यमंत्री वाराणसी में लॉकडाउन के दौरान राशन वितरण, जरूरतमंदों के लिए चलाए जा रहे कम्युनिटी किचेन, रेल-बस से आए प्रवासियों को ठहराने के इंतजाम और उन्हें रोजगार उपलब्ध कराने के लिए किए जा रहे उपायों की समीक्षा करेंगे।

Posted By: Saurabh Chakravarty

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस