वाराणसी, जागरण संवाददाता। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्राथमिक विद्यालयों में 69000 शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया के अंतिम चरण में अवशेष 6696 शिक्षकों को शुक्रवार को लखनऊ में आनलाइन आयोजित समारोह में नियुक्ति पत्र वितरित किया। इसमें जनपद के 22 शिक्षक भी शामिल थे। इस दौरान उन्होंने कहा कि बेसिक शिक्षा का बजट 53 हजार करोड़ रुपये से अधिक है। इसका पूरा लाभ प्रदेश को मिले। आपरेशन कायाकल्प से प्राइमरी विद्यालयों की परिवेश बदला है। अब प्राइमरी स्कूल किसी कान्वेंंट से कमतर नहीं रहेंगे।

कहा कि वर्तमान सरकार में पारदर्शी, ईमानदारी से शिक्षक भर्ती हुई है। शिक्षा विभाग में गत चार वर्ष चार माह में डेढ़ लाख शिक्षकों की भर्ती हुई है। वहीं जनपद के कमिश्नरी सभागार में मुख्यमंत्री नियुक्ति पत्र वितरण समारोह का लाइव प्रसारण देखा व सुना गया। लखनऊ में इस कार्यक्रम में उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा, बेसिक शिक्षा मंत्री डा सतीश चंद्र द्विवेदी ने भी प्रदेश में शिक्षा के गुणात्मक विकास पर अपने विचार व्यक्त किए।

स्थानीय स्तर पर कमिश्नरी सभागार में बतौर मुख्य अतिथि विधायक सौरभ श्रीवास्तव, विधायक सुरेंद्र नारायण सिंह, भाजपा महानगर अध्यक्ष विद्यासागर राय, शैलेश पांडेय, पवन कुमार चौबे,, डीडीओ राजेश ने जनपद के 22 शिक्षकों को नियुक्ति पत्र वितरित किया। नियुक्ति पत्र मिलते ही चयनित अध्यापकों के चेहरे खिल उठे। ्रसंचालन अमृता सिंह व धन्यवाद ज्ञापन बीएसए राकेश सिंह ने किया।

इन्हें मिला नियुक्ति पत्र

विष्णु प्रकाश मिश्रा, मोहाना गुजराती, रितु मिश्रा, दिव्या मिश्रा, रजनीश मणि, अनूप तिवारी, विनय चौबे, आनंद कुमार द्विवेदी, सुमंत कुमार राय, मदन गोपाल अग्रहरी, राम चन्दर पटेल, विकास कुमार पटेल, रघुबीर यादव, शशि प्रकाश, श्याम बाबू जायसवाल, अतुल कुमार मौर्या, मनीष कुमार श्रीवास्तव, प्रकाश दुबे, मीनाक्षी, प्रतिमा भारती, कुमारी नीलम देवी एवं वीरेंद्र कुमार।

नियुक्ति पूरी ईमानदारी और पारदर्शिता साथ हुई

‘‘ नियुक्ति पूरी ईमानदारी और पारदर्शिता साथ हुई। यही कारण है कि मेरे जैसा सामान्य परिवार के लोग भी नियुक्ति पत्र पाने में सफल हुए हैं।

-रितु मिश्रा,

पत्र मिलने से बेहद खुश हूं

‘‘शिक्षक बनने की तमन्ना मन में शुरू से ही थी। नियुक्ति पत्र मिलने से बेहद खुश हूं। शिक्षक बनने का सपना आज पूरा हुई। पूरे मनोयोग से बच्चों को पढ़ाएंगे।

-मोहाना गुजराती,

चयन प्रक्रिया पूरी ईमानदारी से पूरी की गई

‘‘यदि नियुक्ति प्रक्रिया में धांधली हुई तो मेरा चयन नहीं होगा लेकिन चयन प्रक्रिया पूरी ईमानदारी से पूरी की गई है।

-नीलम देवी

तमन्ना आज पूरी हुई

‘‘ शिक्षक बनने की तमन्ना आज पूरी हुई। पूरे मनोयोग से बच्चों का पढ़ाने का कार्य करूंगी।

-दिव्या मिश्रा,

स्कूलों में बच्चों की संख्या बढ़े और बच्चे पढ़े

‘‘अब परिषदीय विद्यालयों का परिवेश वास्तव में बदल गया है। स्कूलों में बच्चों की संख्या बढ़े और बच्चे पढ़े। इसके लिए मैं प्रयास करूंगी।

-मीनाक्षी

 

Edited By: Saurabh Chakravarty