रोक के बावजूद खोल दी सब डीलरशिप

-निर्देश के बाद भी परिवहन अधिकारियों ने नहीं की कार्रवाई

-एजेंसी को जारी किया नोटिस, फिर नहीं लाए अमल में

जागरण संवाददाता, वाराणसी : जिले में अवैध तरीके से वाहनों की सब डीलरशिप एजेंसी खोलने वाले, तय राशि से अधिक पैसा लेने और ग्राहकों का उत्पीड़न करने वालों पर शासन ने शिकंजा कसने का निर्देश दिया है लेकिन परिवहन अधिकारियों ने कोई कार्रवाई नहीं की। सहायक संभागीय परिवहन अधिकारी ने डीलरों को नोटिस जारी कर सब डीलर नहीं खोलने का निर्देश दिया है। ट्रेड सर्टिफिकेट निरस्त करने की भी बात कही थी। वहीं, एआरटीओ ने यात्रीकर अधिकारियों को निर्देश दिया था कि जिले में अभियान चलाकर सब डीलर की जांच करें।

वाहन की एजेंसी लेने के साथ संचालक को परिवहन विभाग से वाहन बेचने का ट्रेड सर्टिफिकेट लेना पड़ता है। संचालक अपने अधीन दूसरी कोई एजेंसी या सब डीलरशिप नहीं खोल सकता है। यदि कोई ऐसा करता है तो ट्रेड सर्टिफिकेट शर्तों का उल्लंघन माना जाता है। परिवहन विभाग की लापरवाही के चलते जिले में अवैध तरीके से 50 से अधिक सब डीलरशिप खुल गए हैं। वे गांव के सीधे-साधे लोगों को गाड़ी का मूल्य तय राशि से अधिक बताते हैं। ग्राहक के अनुरोध करने पर 500 से 1000 हजार रुपये कम कर देते हैं। इसकी शिकायत कई बार एआरटीओ से हो चुकी है।

--

तहसील और ब्लाक स्तर पर कई सब डीलरशिप खुलने का मामला प्रकाश में आया है जबकि सब डीलरशिप का कोई प्रविधान नहीं है। सभी वाहन एजेंसी संचालक को नोटिस जारी कर तत्काल सब डीलरशिप बंद करने का निर्देश दिया गया है। प्रवर्तन अधिकारियों को विशेष अभियान चलाकर जांच करने को कहा गया है। संबंधित अधिकारियों से जवाब मांगा जाएगा।

-सर्वेश चतुर्वेदी, एआरटीओ (प्रशासन)

Edited By: Jagran