आजमगढ़, जेएनएन। एक विवाहित महिला को उसके पति ने तीन तलाक दे दिया। तलाक देने के बाद मां की गोद से मासूम बच्ची को भी छीन लिया और पत्नी को मारपीट कर घर से निकाल दिया। ससुराल से पीड़ित महिला जीयनपुर क्षेत्र स्थित अपने मायके आयी। भाई के साथ उसने शुक्रवार को एसपी से मिलकर पति के साथ ही ससुराल वालों के खिलाफ कार्रवाई के लिए गुहार लगायी।

एसपी ने महिला थानाध्यक्ष को मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई करने का आदेश दिया। जीयनपुर कोतवाली क्षेत्र के बरडीहा गांव निवासी नौशाद की बहन फिरदौस का निकाह 7 दिसंबर 2015 को अंबेडकर नगर जिले के राजेसुल्तानपुर थाना क्षेत्र के बलरामपुर गांव निवासी मोहम्मद आरिफ के साथ हुई है।

फिरदौस का आरोप है कि शादी के बाद से ही दहेज में स्कार्पियों की मांग को लेकर ससुराल के लोग उसे प्रताड़ित करते हैं। उसके पति 26 मई को सऊदी से घर वापस लौटकर आए। चार जून को पति ने मारपीट कर उसका जेवर व सामान रख लिया और उसे तीन तलाक दे दिया। तलाक देने के बाद पति ने मायके वालों से कहा कि आकर उसे ले जाए। मायका पक्ष के लोग जब आए तो ससुराल के लोगों ने जबरन उससे सादे स्टांप पेपर पर दस्तखत बनवाकर घर से निकाल दिया और उसकी दो साल की मासूम बेटी को भी छीन लिया।

पीड़िता ने प्राथमिकी दर्ज कराने के लिए राजेसुल्तानपुर थाने पर भी तहरीर दी। पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं कि तो वह शुक्रवार को भाई संग एसपी से मिलकर कार्रवाई के लिए गुहार लगाने पहुंची थी। हालांकि मामले की जानकारी के बाद एसपी ने महिला थानाध्यक्ष को मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई करने का आदेश दे दिया है। 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Abhishek Sharma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप