वाराणसी, जेएनएन। भारत की प्राचीन चिकित्सा पद्धति आयुर्वेद में काम आने वाली औषधि के पौधे शुक्रवार को आर्मी स्कूल, वाराणसी के प्रांगण में 39 जीटीसी कमांडेंट हुकुम सिंह बैंसला और राजकीय आयुर्वेद महाविद्यालय एवं चिकित्सालय वाराणसी की प्राचार्या प्रो. कंचन गुप्ता ने लगाए। ब्रिगेडियर बैंसला ने बच्चों से कहा कि पौधारोपण से अधिक महत्व है कि उनका संरक्षण करना ताकि वह अपना पूरा आकार ले सके। बच्चे अपनी कॉपी में इन पौधों का उल्लेख करे और उनकी विशेषताओं के बारे में जाने और दूसरों को भी बताए। 

प्रो. कंचन ने कहा कि हम लोग चाहते है कि अधिक से अधिक लोग आयुर्वेद के बारे में जाने और समझे। आयुर्वेद में यहां तक बताया जाता है कि वह कैसी जीवन शैली को अपनाए ताकि बीमार न हो। अंतरराष्ट्रीय एथलीट एवं स्वच्छता दूत नीलू मिश्रा ने बताया कि हमारा प्रयास है कि अधिक से अधिक स्थानों पर पौधारोपण तो हो लेकिन उसके आस-पास सफाई भी ताकि पौधों का विकास अच्छी तरह से हो सके।

आयुर्वेद चिकित्सालय के उपाधीक्षक डा. विनय मिश्रा ने विद्यार्थियों को बताया कि कौन से पौधे से किस-किस बीमारियों में काम आते हैं। कर्नल आरएस ठाकुर  और चीफ इंजीनियर मैरीन आनंद दुबे ने कार्यक्रम का संचालन किया। संयोजक डा. अजय कुमार और डा. टीना सिंघल ने धन्यवाद दिया। 

Posted By: Abhishek Sharma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप