वाराणसी, जेएनएन। लॉकडाउन के दौरान जिले में शराब तस्करी के मामलों में आ रहे भाजपा के लोगों के नाम ने पार्टी के लिए मुश्किलें बढ़ा दी हैं। शराब तस्करी कांड में आरोपित भाजयुमो जिलाध्यक्ष संजय गुप्ता को संरक्षण देने के आरोप में जिलाध्यक्ष हंसराज विश्वकर्मा ने उपाध्यक्ष उमेश दत्त पाठक को पदमुक्त कर दिया। भाजपा जिलाध्यक्ष ने बताया कि प्रदेश नेतृत्व ने ऐसे कृत्य को अक्षम्य मानते हुए ये कार्रवाई की है।

पुलिस ने चौबेपुर थाना क्षेत्र में शनिवार की रात शराब लेकर जा रही एक गाड़ी को पकड़ा थ्रर। गाड़ी पर भाजपा का झंडा लगा था। एक आरोपित संतोष गुप्ता भाजयुमो जिलाध्यक्ष संजय गुप्ता का भाई है। इसी आधार पर पुलिस ने अगले दिन विवेचना में संजय गुप्ता का नाम शामिल कर लिया। इसके बाद सोमवार को संजय गुप्ता को पद से हटा दिया गया। नेतृत्व को पता चला कि संजय को भाजयुमो जिलाध्यक्ष बनाने में उमेश दत्त पाठक का हाथ था। इसके बाद जब शराब तस्कर पकड़े गए तो उमेश थाने पहुंचे और उनको छुड़ाने के लिए पैरवी करने लगे। इतना ही नहीं कुछ बड़े नेताओं से भी बात कराने का दबाव पुलिस पर बनाया। आरोप तो यहां तक है कि संजय गुप्ता को पूरा संरक्षण उमेश दत्त पाठक ही दे रहे थे। ये रिपोर्ट प्रदेश अध्यक्ष तक पार्टी के ही कार्यकर्ताओं ने भेज दी। इसके बाद पार्टी ने सांगठनिक स्तर पर कार्रवाई की।

होलसेलर के साथ भी आया नाम

गत सप्ताह ही लॉकडाउन में शराब बेचने के मामले में कैंट थाना में मकबूल आलम रोड स्थित एक होलसेलर को पकड़ कर पुलिस ने बड़ी कार्रवाई की थी। कार्रवाई के दौरान आरोपित के संबंध स्थानीय मंत्री से होने की बात सामने आई थी। मंत्री संग उसकी फोटो सोशल मीडिया में वायरल हुई थी। इसे लेकर भी विरोधी दल के लोगों ने भाजपा को कटघरे में खड़ा किया था।

Posted By: Saurabh Chakravarty

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस