वाराणसी, जेएनएन। फिजी में भोजपुरी भाषा के ताने-बाने को जोड़ने के लिए वहां की सरकार प्रतिबद्ध है। ऐसा माना जाता है कि भाषा दो व्यक्तियों के विचार को जोड़ती है। जब विचार जुड़ता है तो अपनापन बढ़ता है। इस तरह से भोजपुरी भाषा से जुड़ाव बनाकर भारत-फिजी के सांस्कृतिक संबंधों में मधुरता का प्रयास किया जाएगा। राष्ट्रीय भोजपुरी सम्मेलन में शिरकत करने आए फिजी के भारतीय राजदूत नीलेश रोहिल कुमार ने दोनों देशों के सांस्कृतिक, पर्यटन और व्यवसायिक रिश्तों पर दैनिक जागरण संवाददाता सौरभ चंद्र पांडेय से किया खास बातचीत जिसके कुछ अंश प्रमुख हैं।
-भोजपुरी भाषा को बढ़ावा देने में आपके देश में सरकार क्या-क्या कदम उठा रही है। भारत से आपको कैसा सहयोग मिल रहा है।
-फिजी में भोजपुरी भाषा के विकास का श्रेय भारतीय का ही है। वहां के लोगों को भोजपुरी भाषा में एक अनूठा रस मिलता है। वैसे तो फिजी की मुख्य भाषा अंग्रजी है, लेकिन इधर कुछ वर्षों से फिजी हिंदी का चलन बढ़ गया है। जिसमें हिंदी और भोजपुरी का मिश्रण है। इसके लिए फिजी सरकार रेडियो पर तीन घंटे का एक कार्यक्रम प्रस्तुत करा रहा है। जिसको सुनने के लिए लोग काफी उत्साहित रहते हैं।

- भोजपुरी की एक समृद्ध परंपरा रही है। जिसमें सोहर, गारी, कजरी, बिरहा आदि में मौलिक रचनाओं का फिजी में कैसे विकास करेंगे।
- भोजपुरी के इस लोक संगीत विधाओं का विकास करने के लिए फिजी सरकार इसे स्कूलों के पाठ्यक्रम में शामिल करने का विचार कर रही है। जिससे लोक संगीत का जुड़ाव परिवार से हो सके। बच्चा जब बचपन से इन विधाओं को सीखेगा तब इन लोक विधाओं का जड़ से विकास हो सकेगा। भारतीय संस्कृति का ही परिणाम है कि फिजी में गीता और रामायण का पाठ होता है।

-दोनों देशों के बीच पर्यटन विकास की संभावनाएं कैसे बढेगी।
- फिजी में आय का मुख्य साधन पर्यटन ही है। माना जाए तो दोनों देशों की संस्कृति में समरूपता भी है। हम जल्द ही भारतीय टूरिज्म इंडस्ट्री के लोगों को फिजी आमंत्रित करेंगे। वहां के पर्यटन स्थलों से रू-ब-रू कराएंगे।

- कारोबारी रिश्तें को गति देने के लिए क्या विचार हो रहा है।
- कारोबारी रिश्तों को मजबूती देने के लिए फिजी सरकार भारतीय व्यवसायियों को निर्यात कर में विशेष छूट देने की योजनाएं बन रही है। कुछ योजनाएं बनी हैं। जिसकी जानकारी व्यापारियों को नहीं है। इसके लिए हम फिजी सरकार से आग्रह करके जल्द ही भारतीय और फिजी व्यापारियों की एक वर्चुअल मीटिंग कराएंगे।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021